चीन में कोरोनावायरस से हाहाकार, अब तक 106 लोगों की मौत, भारत में 33 हजार यात्रियों की हुई जांच

चीन में कोरोनावायरस से हाहाकार, अब तक 106 लोगों की मौत, भारत में 33 हजार यात्रियों की हुई जांच

चीन के वुहान शहर में जानलेवा कोरोनावायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। चीन के नेशनल हेल्थ कमीशन ने बताया कि वायरस की चपेट में आकर मरने वालों की कुल मृतकों की संख्या 106 हो गई है, जबकि 2,744 लोगों में अब तक इस वायरस की पुष्टि हुई है।

इनमें से 461 लोगों की हालत बेहद गंभीर है। कमीशन के अनुसार पिछले 24 घंटे में 24 लोगों की मौत हुई है, इनमें एक नौ माह की बच्ची भी है। 1300 नए मामले सामने आए हैं और कुल 4,359 लोगों की जांच संदिग्ध मानकर की जा रही है।

सोमवार को दक्षिणी मुंबई के रहने वाले एक 36 वर्षीय व्यक्ति को कोरोनावायरस का संदिग्ध रोगी मानकर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसी तरह चीन से लौटी बिहार के छपरा की रहने वाली एक लड़की का संदिग्ध रोगी मानकर पटना मेडिकल कॉलेज में इलाज चल रहा है। उसमें कोरोना वायरस जैसे लक्षण मिले हैं।

राजस्थान की राजधानी जयपुर में एक संदिग्ध रोगी मिला है। इसका इलाज एसएमएस अस्पताल में चल रहा है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने बताया कि युवक चीन से एमबीबीएस की पढ़ाई कर लौटा है। इसके अलावा राज्य के चार जिलों में 18 लोगों की अगले 28 दिनों तक निगरानी की जा रही है जो हाल ही चीन से राजस्थान लौटे हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि अब तक 155  फ्लाइट से आने वाले 33,552 यात्रियों की जांच हो चुकी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा कि कोरोनावायरस को पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित करना जल्दबाजी होगी।

वुहान में फंसे लोगों के लिए कदम उठा सकती है सरकार
केंद्र सरकार ने सोमवार को चीन के वुहान शहर में फंसे लोगों को वापस लाने का फैसला किया है। यहां फंसे लोगों की संख्या करीब 250 है जिनमें अधिकतर भारतीय छात्र हैं। कैबिनेट सचिव राजीव गौबा की अध्यक्षता में हुई बैठक में ये फैसला लिया गया। इसके साथ ही कोरोना वायरस से निपटने के लिए तैयारियों की समीक्षा की गई।

एक अधिकारी की मानें तो विदेश मंत्रालय जल्द ही चीन के अधिकारियों से बात कर वुहान में फंसे भारतीय छात्रों और अन्य लोगों की वापसी की बात करेगा। मालूम हो कि वुहान समेत कुल 12 शहरों को चीन ने वायरस के खौफ में सील कर दिया है।

वहीं भारत सरकार का जहाज रानी मंत्रालय अंतरराष्ट्रीय बंदरगाहों पर चीन से आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग शुरू कर सकता है जिससे देश के भीतर इस वायरस को फैलने से रोका जा सके। इसी तरह चीन से आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग के साथ नेपाल सीमा पर भी स्क्रीनिंग की व्यवस्था शुरू होगी।

मुंबई में हवाई अड्डे पर 3756 यात्रियों की स्क्रीनिंग
महाराष्ट्र में मुंबई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर 26 जनवरी तक 3756 यात्रियों ने स्क्रीनिंग की जा चुकी है। अब तक कोरोनावायरस के चार संदिग्ध मरीजों को मुंबई के कस्तूरबा अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुणे के नायडू अस्पताल में दो मरीजों को भर्ती किया गया है।

केरल में 436 लोग निगरानी में, सभी की रिपोर्ट निगेटिव
चीन से केरल लौटे 436 लोग निगरानी में है। पांच लोग अभी भी अस्पतालों के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती हैं। सभी रोगियों के खून का नमूण पुणे स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी भेजा गया था जिनकी रिपोर्ट निगेटिव है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री केके शायलजा का कहना है कि जिला स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ मिलकर सभी तरह के कदम उठाए गए हैं। अभी कोई रोगी न मिलने के बाद अस्पतालों में आइसोलेशन वार्ड तैयार कर लिया है।

रोगियों के करीबी 33 हजार लोगों की निगरानी

चीन के हेल्थ कमीशन ने बताया कि रविवार को 51 लोगों की हालत में सुधार देखा गया है। निमोनिया के चलते अब तक 80 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद भी 5,794 लोग संदिग्ध हैं जिन पर नजर रखी जा रही है। कुल 33 हजार लोग, जो रोगियों के करीब हैं उनकी भी निगरानी की जा रही है। इसमें से 30,453 लोगों का इलाज भी चल रहा है। 8 मामले हांगकांग, 5 मकाऊ और चार मामले ताइवान से आए हैं।
Top Stories