Wednesday , January 24 2018

चीफ जस्टिस आफ़ इंडिया का तक़र्रुर मेरिट की बुनियाद पर होना चाहिए: काटजू

सदर नशीन प्रेस काउंसल आफ़ इंडिया रिटायर्ड जस्टिस मारकंडे काटजू ने आज चीफ जस्टिस आफ़ इंडिया का तक़र्रुर से न्यारीती की बुनियाद पर नहीं बल्कि मेरिट की बुनियाद पर करने की ज़बरदस्त ताईद की।

सदर नशीन प्रेस काउंसल आफ़ इंडिया रिटायर्ड जस्टिस मारकंडे काटजू ने आज चीफ जस्टिस आफ़ इंडिया का तक़र्रुर से न्यारीती की बुनियाद पर नहीं बल्कि मेरिट की बुनियाद पर करने की ज़बरदस्त ताईद की।

उन्होंने कहा कि दस्तूर में इसी कोई लाज़िमी दफ़ा नहीं है कि सीनियर‌ तरीन सुप्रीम कोर्ट के जज को ही चीफ जस्टिस मुक़र्रर किया जाये। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट चीफ जस्टिस आफ़ इंडिया का और हाईकोर्ट अपने चीफ जस्टिस का रास्त तक़र्रुर करसकता है।

उन्होंने एहसास ज़ाहिर किया कि मौजूदा तक़र्रुर के तरीके से मतलूब नताइज हासिल नहीं होरहे हैं और इस से अदलिया को अज़ीम नुक़्सान पहुंच रहा है। इस पस-ए-मंज़र में उन्होंने बाज़ साबिक़ चीफ जस्टिसों के ख़ुलूस को भी मशकूक क़रार दिया।

उन्होंने कहा कि चीफ जस्टिस आफ़ इंडिया अदलिया के ख़ानदान का सरबराह होता है और गैर मुस्तहिक़ शख़्स के तक़र्रुर की वजह से गुज़िश्ता कई साल से अदलिया को अज़ीम नुक़्सान पहुंचा है। उन्होंने कहा कि चीफ जस्टिस आर एम लवधा के 27 सितंबर को सबकदोश होने से पहले उन के जानशीन का मेरिट की बुनियाद पर तक़र्रुर किया जाये। उन्होंने कहा कि फ़िलहाल कई हाई कोर्टस के एसे चीफ जस्टिस मौजूद हैं जो इस तक़र्रुर के मुस्तहिक़ हैं।

TOPPOPULARRECENT