Friday , September 21 2018

चीफ़ मिनिस्टर शीला दिक्षित‌ ने अदालत के फ़ैसला का खैरमक़दम किया

दिल्ली चीफ़ मिनिस्टर शीला दिक्षित‌ ने 16 दिसम्बर इजतिमाई इस्मत रेज़ि केस में चारों मुल्ज़िमीन को अदालत की जानिब से सज़ाए मौत दिए जाने के फ़ैसले का खैरमक़दम करते हुए कहा कि इस फ़ैसला से इस्मत रेज़ि के वाक़ियात में कमी ज़रूर वाके होगी क्यों

दिल्ली चीफ़ मिनिस्टर शीला दिक्षित‌ ने 16 दिसम्बर इजतिमाई इस्मत रेज़ि केस में चारों मुल्ज़िमीन को अदालत की जानिब से सज़ाए मौत दिए जाने के फ़ैसले का खैरमक़दम करते हुए कहा कि इस फ़ैसला से इस्मत रेज़ि के वाक़ियात में कमी ज़रूर वाके होगी क्योंकि जब तक सख़्त सज़ाएं ना दी जाएं तब तक मुजरिमाना ज़हनियत के लोगों को राहे रास्त पर नहीं लाया जा सकता।

उन्होंने कहा कि तेज़गाम अदालत ने बिलकुल अपने नाम की तरह तेज़ी से फ़ैसला सुनाते हुए मुजरिमाना ज़हनियत के हामिल लोगों को खौफ़ज़दा कर दिया है। दूसरी तरफ़ इस्मत रेज़ि की शिकार लड़की के आबाई मौज़ा में लोगों ने मोमबत्तियां जलाकर एक ख़ुसूसी दुआइया इजतिमा मुनज़्ज़म किया और अदालत के फ़ैसला पर मिठाई तक़सीम की।

मौज़ा मीदावर कलां उस वक़्त मशहूर होगया था जब अख़बारात और टी वी चैनल्स‌ ने इस्मत रेज़ि का शिकार लड़की का ताल्लुक़ इस मौज़ा से होने का उजागर‌ किया था।

TOPPOPULARRECENT