Tuesday , December 19 2017

चीफ़ सेक्रेटरी मनी मैथीयू के जांनशीन की सरगर्मी से तलाश

हैदराबाद।27 दिसंबर: आज-कल अक़ल्लीयतों ख़ासकर मुसलमानों के तुएं हुकूमतों का रवैय्या सौ गज़ वारें एक ना फाड़ें के मिस्दाक़ है और आए दिन इस हक़ीक़त की तसदीक़ होती रहती है।

हैदराबाद।27 दिसंबर: आज-कल अक़ल्लीयतों ख़ासकर मुसलमानों के तुएं हुकूमतों का रवैय्या सौ गज़ वारें एक ना फाड़ें के मिस्दाक़ है और आए दिन इस हक़ीक़त की तसदीक़ होती रहती है।

आंध्र प्रदेश में म्यों तो इंडियन अडमनसटरेटेव सरवेसस में मुस्लिम ओहदेदारों की तादाद एक अर्सा से महिदूद रही है मगर पिछ्ले 21 बरसों से कोई भी मुस्लिम ओहदेदार नज़म वनसक़ के आला तरीन ओहदा यानी चीफ सेक्रेटरी के मुक़ाम पर नहीं पहुंच पाया है।

एसा नहीं कि कोई मुस्लिम ओहदेदार इस रुतबे पर पहुंचने का अहल नहीं रहा है मगर हुकूमत ने अपने इख़तियार तमेज़ी को इस्तिमाल करते हुए इन दो दहों में कभी किसी मुस्लिम ओहदेदार को इस रुतबे तक नहीं पहुंचाया है चाहे हुकूमतें किसी भी पार्टी की क्यों ना रहे।

अगरचे इस मर्तबा एक मुस्लिम आई ए एस ओहदेदार रियासत के से नर तरीन ओहदेदारों में शामिल हैं मगर उन्हें एक से ज़ाइद मर्तबा नजरअंदाज़ करदिया गया है।

एक बार फिर मौजूदा चीफ सेक्रेटरी मनी मैथ्यू की आइन्दा माह सुबकदोशी पर उन के जानशीन की तलाश का आग़ाज़ होचुका है। अगरचे रियासती नज़म वनसक़ के सरबराह की तलाश शुरू होगई है मगर से नर आई ए एस ओहदेदारों के माबेन ज़बरदस्त मुसाबक़त है।

रिवायती तौर पर चीफ कमिशनर आफ़ लैंड एडमिनिस्ट्रेशन को जब कभी ज़रूरत पड़ती है चीफ सैक्रेटरी के ओहदा पर तरक़्क़ी दी जाती है। हत्ता कि मौजूदा चीफ सेक्रेटरी इस बावक़ार ओहदा पर फ़ाइज़ होने से पहले चीफ कमिशनर लैंड एडमिनिस्ट्रेशन ही थीं।

उस वक़्त रियासत के से नर तरीन आई ए एस ओहदेदारों में मुहम्मद शफीक अल्ज़मां डायरैक्टर जनरल डाक्टर मरी चन्ना रेड्डी एच् आर डी इंस्टीट्यूट और जए सत्य ना रावना शामिल हैं मगर सत्यनाराय‌ना ने मर्कज़ी हुकूमत की ख़िदमात को इख़तियार करलिया है।

वो मर्कज़ी ख़िदमात में शमूलीयत इख़तियार करने से पहले चीफ मिनिस्टर के दफ़्तर में स्पैशल चीफ सैक्रेटरी के ओहदे पर फ़ाइज़ थे। मिस्टर शफीक अल्ज़मां के साथ एक अर्सा से नाइंसाफ़ी रवा रखी गई है और उन्हों ने अपने साथ अदल के लिए ट्रब्यूनल से रुजू होते हुए एक नज़ीर क़ायम की है।

अब जबकि चीफ सैक्रेटरी के ओहदा के लिए तलाश जारी है मालूम हुआ है कि उन्हें एक बार फिर नज़रअंदाज करते हुए उन से बहुत जूनीयर ओहदे दर्राओं के नामों पर ग़ौर किया जा रहा है।

TOPPOPULARRECENT