Sunday , July 22 2018

‘चुनावी बॉन्ड’ राजनीतिक चंदे के नाम पर कालेधन को सफेद करने का माध्यम बनेगा- सीताराम येचुरी

नई दिल्ली। माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने शनिवार को कहा कि राजनीतिक दलों के चंदे को पारदर्शी बनाने के नाम पर चुनावी बाॅन्ड जारी करने की सरकार की पहल राजनीतिक भ्रष्टाचार को वैध बनाने का तरीका साबित होगी।

येचुरी ने कहा कि चुनावी बॉन्ड राजनीतिक चंदे के नाम पर कालेधन को सफेद धन में तब्दील करने का माध्यम बनेगा। यह अर्थव्यवस्था और लोकतंत्र, दोनों के लिए सबसे बड़ा खतरा है।

येचुरी ने कहा कि चुनावी बाॅन्ड के जरिये विदेशों से मिलने वाले चंदे को वैध बनाने के लिए सरकार ने विदेशी अंशदान नियमन अधिनियम (एफसीआरए) में भूतलक्षी प्रभाव से लागू करने के लिए संशोधन किया है।

इससे कोई भी विदेशी नागरिक, कंपनी या निकाय किसी भी भारतीय राजनीतिक दल को असीमित चंदा दे सकेगा। इसमें चंदा देने और लेने वाले किसी भी व्यक्ति अथवा संस्था की पहचान को सार्वजनिक करना अनिवार्य नहीं होगा।

माकपा नेता ने चुनावी बॉन्ड की पहल को कालेधन से राजनीतिक भ्रष्टाचार को सींचने वाली व्यवस्था बताते हुए कहा कि यह ‘सूचना के अधिकार’ पर भी कुठाराघात करेगा।

TOPPOPULARRECENT