Saturday , December 16 2017

चुनाव बाद बिजली का बिल बढ़ाकर योगी सरकार ने अपना असली चेहरा दिखाया- अखिलेश

लखनऊ। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि नगर निकाय चुनाव के आखिरी चरण के मतदान के अगले ही रोज बिजली दरों में वृद्धि कर यूपी की भाजपा सरकार ने अपनी असली चेहरा दिखा दिया है। यादव ने कहा कि 29 नवम्बर को नगरीय निकाय चुनाव के अंतिम चरण का मतदान करने जा रहे लोगों में से कई को सरकार की मंशा का अनुमान भी नहीं होगा कि अगले ही दिन उन पर बिजली दरों में जबरदस्त बढ़ौतरी का बोझ पड़ने वाला है।

यह बढ़ौतरी योगी सरकार की राजनीतिक बेईमानी और अनैतिक आचरण को प्रदर्शित करती है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों विशेष तौर पर ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत दरों में की गई बेतहाशा वृद्धि भाजपा सरकार की किसानों के प्रति नफरत को दर्शाती है।

उन्होंने मांग की कि विद्युत दरों में की गई वृद्धि तत्काल वापस ली जाए। यादव ने कहा कि सपा ने अपने शासनकाल में विद्युत उत्पादन का बुनियादी ढांचा विकसित कर 8500 मैगावाट से 16500 मैगावाट उत्पादन की व्यवस्था की थी, उसे भाजपा सरकार ने बर्बाद कर दिया है।

ग्रामीण क्षेत्रों में अनमीटर्ड बिजली उपभोक्ताओं की जो बिजली दरें तय हुई हैं, उसे तुलनात्मक रूप से देखा जाए तो स्पष्ट है कि गांव की जनता को ठगा गया है।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि उनकी सरकार के कार्यकाल में ग्रामीण मीटर्ड उपभोक्ता पहले 50 रुपए प्रति किलोवाट फिक्स चार्ज तथा 2.20 रुपए प्रति यूनिट के हिसाब से बिल चुकाते थे जबकि अब उन्हें 80 रुपए प्रति किलोवाट फिक्स चार्ज और उसे 5.50 रुपए प्रति यूनिट की दर से बिल का भुगतान करना पड़ेगा।

उन्होंने कहा कि भाजपा का हमेशा से दोहरा चरित्र रहा है। कथनी-करनी में विरोधाभास है।

TOPPOPULARRECENT