Saturday , July 21 2018

छत्तीसगढ़ : सीडी कांड के मास्टरमाइंड का पता CBI ने लगाया! भाजपा-कांग्रेस के चार नेताओं पर कसा शिकंजा

रायपुर : सीडी कांड में संदेह के घेरे में आए दस लोगों के खिलाफ ठोस सुबूत जुटाने का प्रयास सीबीआइ ने तेज कर दिया है। भाजपा व कांग्रेस से जुड़े चार नेताओं के बयान दर्ज किए गए। ये चार नेता कौन हैं, फिलहाल सीबीआइ ने इन नामों का पर्दाफाश नहीं किया है, लेकिन सूत्रों का दावा है कि इनमें से एक मंत्री का कट्टर समर्थक रह चुका है।

संदिग्धों से पूछताछ और उनके खिलाफ सुबूत जुटाने के लिए एसआइटी द्वारा खंगाले गए कॉल डिटेल्स की सीबीआइ नए सिरे से अध्ययन कर रही है। सीबीआइ संदिग्धों के दिल्ली, गाजियाबाद, रायपुर, भिलाई, दुर्ग, कुम्हारी और जबलपुर में ट्रेस किए गए लोकेशन के आधार पर उन सभी से पूछताछ करने की तैयारी कर रही है। सूत्रों का दावा है कि सीडी कांड के मास्टरमाइंड का पता अफसरों ने लगा लिया है। जल्द ही उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की जाएगी।

फिलहाल कांग्रेस से जुड़े एक बड़े होटल कारोबारी व उसके भाई का नाम भी सामने आया है। बताया जा रहा है कि 2014 में ब्लैकमेलिंग के मामले में भी उसका नाम सामने आया था। इधर, सीबीआइ के दो अफसर दिल्ली-गाजियाबाद भी रवाना हुए हैं।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि गुरुवार को सीबीआइ की टीम दिल्ली और गाजियाबाद पहुंची। दिल्ली के गीतानगर स्थित सुपर टोन डिजिटल शॉप के संचालक ईशू नारंग और गाजियाबाद में विनोद वर्मा की पत्नी और बेटे से पूछताछ की गई। सीबीआइ के अफसरों ने पूछताछ के दौरान ईशू नारंग व विनोद वर्मा के बेटे पुरनवसु वर्मा को एसआइटी से मिले वीडियो फुटेज दिखाए। इस वीडियो में नजर आ रहे कारोबारी विजय भाटिया समेत कुछ और कारोबारी व भाजपा-कांग्रेस नेताओं के बारे में पूछताछ की। पूछताछ के बाद अफसरों ने सीबीआइ एसपी मधुसूदन सिंघल को मौखिक रिपोर्ट दी है।

बुधवार को सीबीआइ अफसरों ने जेल में बंद विनोद वर्मा से पूछताछ के बाद उनसे जेल में मिलने आने वालों का रजिस्टर में रिकॉर्ड खंगाला था। विनोद से मिलने वाले तीन व्यक्तियों को सीबीआइ अफसरों ने तलब किया और उनसे सवा घंटे तक पूछताछ की। इनमें दो कारोबारी हैं।

TOPPOPULARRECENT