छत्तीसगढ़ से आने वाली ख़वातीन गिरफ़्तार

छत्तीसगढ़ से आने वाली ख़वातीन गिरफ़्तार
हैदराबाद १८ जुलाई ( सियासत न्यूज़ ) : आंधरा प्रदेश सियोल लिबर्टीज़ कमेटी-ओ-दीगरइन्क़िलाबी तंज़ीमों , ने छत्तीसगढ़ से हैदराबाद आने वाली कबायली ख़वातीन के हमराह ए पी सी अलसी सिटी कमेटी सैक्रेटरी ना रावना राव‌ और ख़ाज़िन हनुमंत राॶ क

हैदराबाद १८ जुलाई ( सियासत न्यूज़ ) : आंधरा प्रदेश सियोल लिबर्टीज़ कमेटी-ओ-दीगरइन्क़िलाबी तंज़ीमों , ने छत्तीसगढ़ से हैदराबाद आने वाली कबायली ख़वातीन के हमराह ए पी सी अलसी सिटी कमेटी सैक्रेटरी ना रावना राव‌ और ख़ाज़िन हनुमंत राॶ को पुलिसअफ़ज़ल गंज की जानिब से गिरफ़्तार करने की मुज़म्मत की और तमाम अफ़राद के ख़िलाफ़ दर्ज मुक़द्दमा से दसतबरदारी इख़तियार करने और ग़ैर मशरूत रिहा करने का हुकूमत से मुतालिबा किया बसूरत-ए-दीगर एहतिजाज मुनज़्ज़म करने का इंतिबाह दिया ।
अख़बारी नुमाइंदों से बातचीत करते हुए मसरस विरह विरह राव‌, वीरा सिम , डी सुरेश कुमार नायब सदर वे रघूनाथ जवाइंट सैक्रेटरी , ए पी सी अलसी , जी प्रसाद राव‌ , जय लनगया , सरीनवास-ओ-दीगर क़ाइदीन ने बतायाकि मज़कूरा ख़वातीन छत्तीसगढ़ से गुज़शताशब तक़रीबन साढे़ तीन बजे अमली बिन स्टेशन पहूंचे थे और उन्हें लेकर तुलजा भवन में क़ियाम करवाने जाने वाले सिटी कमेटी क़ाइदीन के हमराह तमाम ख़वातीन को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया और 24 घंटों तक गिरफ़्तारी को पोशीदा रखा । आज तमाम अफ़राद-ओ-ख़वातीन को पुलिस ने अदालत में पेश किया ।

इन क़ाइदीन ने कहा कि रियासत में पुलिस राज चल रहा है और हक़ की बात करने वालों को दबाने-ओ-कुचल डालने की कोशिश की जा रही है और हक़ बात करना रियासत में जुर्म कहलाया जा रहा है । इन क़ाइदीन ने कहा कि मज़कूरा क़ाइदीन-ओ-ख़वातीन की गिरफ़्तारी के सिलसिला में वज़ीर-ए-दाख़िला से नुमाइंदगी की गई लेकिन वज़ीर-ए-दाख़िला से भी पुलिस लाइलमी का इज़हारक्या इस तरह वज़ीर-ए-दाख़िला का भी पुलिस के पास कोई मुक़ाम नहीं है ।

उन्हों नेवज़ीर-ए-दाख़िला मिस्टर चिदम़्बरम और ख़वातीन-ओ-क़ाइदीन सिटी कमेटी को गिरफ़्तार करने वाले ओहदेदारों के मुक़द्दमा केस दर्ज कर के इन को गिरफ़्तार करने का मुतालिबा किया ।

उन्होंने कहा कि पुलिस ओहदेदार मलिक के मुख़्तलिफ़ मुक़ामात पर जाकर एनकाउंटरस के नाम पर बेक़सूर अफ़राद का क़त्ल करने में सर-ए-फ़हरिस्त हैं और यही ओहदेदार अपनी इन तमाम गै़रक़ानूनी सरगर्मीयों के बेनकाब होने के ख़दशा के पेशे नज़र गै़र क़ानूनी गिरफ्तारियां भी कर रहे हैं और ए पी सियोल लिबर्टीज़ कमेटी के क़ाइदीन कोमुख़्तलिफ़ इल्ज़ामात आइद कर के जेल भेज रहे हैं । लिहाज़ा उन के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाय ।

Top Stories