Sunday , November 19 2017
Home / Bihar/Jharkhand / छोटे कारोबारी के लिए गांव के नौजवानों को 50-50 हजार रुपए का लोन दें बैंक

छोटे कारोबारी के लिए गांव के नौजवानों को 50-50 हजार रुपए का लोन दें बैंक

रांची : वज़ीरे आला रघुवर दास ने कहा, पैसे के किल्लत में बेटियों की पढ़ाई अधूरी नहीं रहने दी जाएगी। सरकार का नारा है, पहले पढ़ाई फिर विदाई। गांव में खातून को तरबियत कर उन्हें स्वरोजगार से जोड़ा जाएगा। सीएम ने मौजूद बैंकर्स कमेटी के नुमाय्न्दे से कहा कि गरीबों को दिए गए लोन के ब्याज को माफ करने की सिम्त में पहल करें। साथ ही मुद्रा योजना के तहत छोटे-छोटे कारोबारी के लिए गांव के नौजवानों को 50-50 हजार रुपए का लोन बिना किसी परेशानी के दें। गाँव वाले भी वक़्त पर लोन लौटाने की कोशिश करें। सीएम मंगल को धुर्वा के जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में मुनाक्किद आजीविका महिला महासम्मेलन को खिताब कर रहे थे। प्रोग्राम में वज़ीरे आला ने मुख्तलिफ शोबे में बेहतर काम करनेवाली गाँव के खातून को सम्मानित भी किया।

वज़ीरे आला ने कहा, खातून को ज्यादा से ज्यादा हक मिले, इसलिए सरकार ने इस साल खातून के लिए अलग से बजट पेश किया है। फेजवाइज सभी गांव में सहायता समूह के संचालन के लिए इमारत बनाए जाएंगे। आदिवासी ख्वातीन के स्वयं सहायता समूह को एक-एक लाख व आदिवासी नौजवानों को रोजगार के लिए दो-दो लाख दिए जाएंगे। अभी रियासत में 36 हजार स्वयं सहायता समूह हैं। इनकी मदद से तकरीबन चार लाख लोगों को रोजगार मिला है।
अगले साल जब हम खातून दिवस मनाएं, तो स्वयं सहायता समूहों की तादाद 72 हजार हो जाए। इस टारगेट के साथ काम करने की जरूरत है। वज़ीरे आला ने खातून से दरख्वास्त किया कि वे अपने गांव को नशा से आज़ाद कराएं। नशा आज़ाद गांव को सरकार एक-एक लाख रुपए का इनाम देगी। उन्होंने कहा कि सरकार हर घर में बैतूल खुला बनाने के लिए 12 हजार की मदद दे रही है।

TOPPOPULARRECENT