Tuesday , December 12 2017

जकार्ता ने रोहिंग्या मुसलमानों के लिए और भेजी सहायता सामग्री

जकार्ता: म्यांमार के राखीने राज्य में रोहिंग्या समुदाय के लिए मानवीय सहायता देने के लिए दो हरक्यूलिस विमान बुधवार को जकार्ता से रवाना हुए।

राष्ट्रीय आपदा निवारण एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुरो नुग्रोहो ने कहा, “इन दो विमानों में तंबू, पानी के टैंक, कंबल, परिवार किट, पांच टन तत्काल भोजन और लगभग एक टन दवाएं हैं, जिसे सरकार द्वारा वितरण के लिए सौंपा गया है।” रोहिंग्या समुदाय के लिए सहायता शिपमेंट यांगून में म्यांमार की सरकार को सौंप दी जाएगी।

नुगुरोह ने कहा कि इंडोनेशिया ने बांग्लादेश में राहत प्रयासों में मदद करने के लिए पहले आठ छतों वाला मिशन भेजा था।

आठ छतों वाले मिशन ने 74 टन सहायता पहुंचाई, जिसमें चावल, तत्काल भोजन पैकेज, बिजली जनरेटर, पानी के टैंक, तंबू, परिवार किट, कपड़े, चीनी, बिस्कुट और खाना पकाने के तेल शामिल थे।

बांग्लादेश में इंडोनेशिया के राजदूत रीना सोमनो ने सोमवार को कहा कि इंडोनेशिया से लाया गया चावल 120,000 शरणार्थियों के बीच वितरित किया जा चुका है।

उन्होंने कहा कि 11 सिविल सोसाइटी और चैरिटी ग्रुप वाले म्यांमार के लिए इंडोनेशियाई मानवतावादी गठबंधन के स्वयंसेवक शरणार्थियों को सहायता वितरण करने के लिए ढाका आए हैं।

अकीम के सदस्य रुमा ज़कात ने कहा कि वे रोहंगिया शरणार्थियों के लिए लगातार दान ले रहे हैं। बुधवार को अकीम ने जकार्ता में अल-हक़ुल मुबिन मस्जिद में एक मण्डली से 350 मिलियन इंडोनेशियाई रुपिया (26,363 डॉलर) का नकद दान प्राप्त किया है।

मस्जिद के केयरटेकर मुहम्मद सुक्रॉन ने कहा कि उन्होंने लगभग दो हफ्ते में रोहिंग्या शरणार्थियों के लिए फण्ड जुटाया है।

TOPPOPULARRECENT