Monday , December 11 2017

जगन केस :क्रिकेट बोर्ड सरबराह श्रीनिवासन के ख़िलाफ़ चार्ज शीट

इंडियन क्रिकेट बोर्ड सरबराह एन श्रीनिवासन के ख़िलाफ़ सी बी आई ने चार्ज शीट पेश की है। वाई एस आर कांग्रेस पार्टी सरबराह वाई एस जगन मोहन रेड्डी के गैर मह्सूब असासा जात केस में शमिल होने पर ख़ुसूसी अदालत में सी बी आई ने तीन चार्ज शीट दाख

इंडियन क्रिकेट बोर्ड सरबराह एन श्रीनिवासन के ख़िलाफ़ सी बी आई ने चार्ज शीट पेश की है। वाई एस आर कांग्रेस पार्टी सरबराह वाई एस जगन मोहन रेड्डी के गैर मह्सूब असासा जात केस में शमिल होने पर ख़ुसूसी अदालत में सी बी आई ने तीन चार्ज शीट दाख़िल किए हैं जिस में एक चार्ज शीट में श्रीनिवासन का नाम शामिल है।

श्रीनिवासन को क्रिकेट की दुनिया के बाहर भी मुश्किलात का सामना है। वाई एस आर कांग्रेस सरबराह के गैर मह्सूब असासा जात केस में उन्हें भी माख़ूज़ किया गया है।

श्रीनिवासन के अलावा जो इंडिया समेंट्स के वाइस चैरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर थे, सी बी आई ने पन्ना समेंट्स और भारती समेंट्स के ख़िलाफ़ भी चार्ज शीट दाख़िल की हैं।

इन तमाम कंपनियों पर इल्ज़ाम हैके .आंध्र प्रदेश हुकूमत से सरपरस्ती हासिल होने के बाद जगन मोहन रेड्डी की कंपनियों में सरमाया कारी की गई।

उस वक़्त चीफ मिनिस्टर की हैसियत से जगन मोहन रेड्डी के वालिद राज शेखर रेड्डी बरसर-ए-इक्तदार थे। सी बी आई के तमाम तीन चार्ज शीट में जगन मोहन रेड्डी और उनके आडीटर वजए साई रेड्डी को मुल्ज़िम नंबर एक और दो बनाया गया है जबकि श्रीनिवासन और दुसरे दो से नर आई ए एस ओहदेदारों एम सीमोयलज़ और अदित्य नाथ दास को भी समेंट्स कंपनियों से मरबूत केस में इल्ज़ामात का सामना है।

वाई एस आर कांग्रेस लीडर के वकील अशोक रेड्डी ने ये बात बताई। जगन मोहन रेड्डी को पिछ्ले साल 27 मई को सी बी आई ने गिरफ़्तार किया था।

वो इस वक़्त चंचलगुड़ा जेल में अदालती तहवील में महरूस हैं। सी बी आई ने इल्ज़ाम आइद किया कि जगन मोहन रेड्डी ने अपने वालिद राज शेखर रेड्डी के साथ विजय साई और दुसरे से मिल कर हुकूमत को धोका देने की साज़िश कि थी। सी बी आई ने सुप्रीम कोर्ट को मतला किया है के वो सिंदूर पाव‌डर , भारती रग्घू राम समेंट्, डालमिया समेंट्स ,इंडिया समेंट्स और कोलकता की बाअज़ सूटकेस कंपनियों के ख़िलाफ़ चार्ज शीट दाख़िल करेगी।

तहक़ीक़ाती एजंसी के मुताबिक़ इंडिया समेंट्स ने जगती पबलेकेशनस में 135 करोड़ रुपये की सरमाया कारी की थी। इस सरमाया कारी के इव्ज़ आंधरा प्रदेश में इस कंपनी को कानकनी की लीज़ सहूलतें दी गई थीं। श्रीनिवासन सन से इस केस के सिलसिले में पिछले साल जून में पूछगिछ की जा चुकी है।

TOPPOPULARRECENT