Saturday , December 16 2017

जदयू छोटी पार्टी थी, हमने नीतीश को बनाया : राजनाथ

खगड़िया : हम बदले की नहीं, बदलाव की सियासत करते है। सियासत मुल्क की तामीर के लिए होनी चाहिए। इसलिए मरकज़ी हुकूमत का एक महज़ नारा है, सबका साथ, सबका तरक़्क़ी और मोदी सरकार इसी नारे के साथ आगे बढ़ रही है। मरकज़ी वजीरे दाख्ला राजनाथ सिंह ने हम सेकुलर के उम्मीदवार राजेश कुमार उर्फ रोहित के हिमायत में जेएनकेटी के मैदान में मुनक्कीद इंतिखाबी इजलास को खिताब करते हुए कहा कि एनडीए आयेगा, तो बिहार में कानून का राज होगा। हिंदुस्तान की अकेली सियासी पार्टी भाजपा है, जो सबको साथ लेकर चल रही है। अटल जी 24 पार्टियों को साथ लेकर छह साल तक हुकूमत चलाये। चलाये. का साथ सब का तरक़्क़ी का नारा है।

मोदी हुकूमत बिहार को किसी भी सूरत में आगे ले जाना चाहती है। इसमें आप लोगों को साथ देना होगा। भारत में सबसे बड़ी मसला बेराेजगारी है। इसे दूर करने के लिए मोदी सरकार ने भारत में एक अलग वज़ारत ही खोल दिया, जिसका नाम है प्रतिभा विकास मंत्रालय।

यह वुजरा नौजवानों की कूवत की शिनाख्त करेगा कि नौजवान किस इलाक़े में मन लगा कर काम करना चाहते हैं। इसके बाद उसे उसी इलाक़े के लिए तरबियत किया जायेगा। तरबियत हासिल करने के बाद नौजवान बेरोजगार नहीं रहें, इसके लिए मुद्रा बैंक खोला गया है।

इससे नौजवानों को बगैर किसी शर्त के लोन दिया जायेगा, ताकि नौजवान अपने दम से अपने पांव पर खड़े हो सकें। बिहार में जब जदयू सबसे छोटी पार्टी थी, तो भाजपा ने ही नीतीश कुमार को आगे बढ़ाया था। यह भाजपा की दरियादिली थी। बाद में जब उनकी पार्टी बड़ी हो गयी, तो उन्होंने सरकार तोड़ने का काम किया।

उन्होंने अदाद पेश करते हुए बताया कि बिहार में अज़ीम इत्तिहाद होने के बाद किस क़िस्म का जुर्म बढ़ गया है। उन्होंने बताया कि 2014 में बिहार के अंदर 3403 लोगों की कत्ल हुईं , जबकि 3479 लोगों की कत्ल की कोशिश किया गया। अब आप लोगों को तय करना है कि बिहार को तरक़्क़ी की तरफ ले जाना है या नहीं।

 

TOPPOPULARRECENT