Friday , December 15 2017

जदयू से तालमेल नहीं : रामविलास पासवान

पटना 27 जून : लोजपा सदर रामविलास पासवान ने कहा कि वजीर ए आला नीतीश कुमार एतेमाद का जुगाड़ करने के बाद भाजपा से अलग हुए। अगर सौ से कम असेंबली रुक्न उनके होते, तो किसी हाल में भाजपा को नहीं छोड़ते। वे अंगुली कटा कर शहीद बन रहे हैं। गुजरात

पटना 27 जून : लोजपा सदर रामविलास पासवान ने कहा कि वजीर ए आला नीतीश कुमार एतेमाद का जुगाड़ करने के बाद भाजपा से अलग हुए। अगर सौ से कम असेंबली रुक्न उनके होते, तो किसी हाल में भाजपा को नहीं छोड़ते। वे अंगुली कटा कर शहीद बन रहे हैं। गुजरात के वजीर ए आला नरेंद्र मोदी के नाम पर ही एतराज़ थी, तो गुजरात दंगा के बाद 2002 में ही एनडीए से अलग क्यों नहीं हुए।

उस वक़्त वे मोदी की ढाल बन गये थे। अचानक उनमें मुसलिम मुहब्बत जग गया व सेकुलर का मुखौटा पहन लिये। बुध को प्रेस कांफ्रेस में पासवान ने कहा कि बिहार में इत्तेहाद को लेकर कांग्रेस के आखरी फैसला तक कुछ नहीं कहेंगे। लेकिन, इतना तय है कि जदयू के साथ तालमेल लोजपा को मंजूर नहीं होगा।

जदयू-कांग्रेस इन्तेखाबात में साथ आते हैं, तो वे इनके मुखालफत में खड़ा होंगे। राजद को लोजपा नहीं छोड़ेगी। उन्होंने बगहा पुलिस फायरिंग की वाकिया को अफसोशनाक बताया व कहा कि रियासत की हुकूमत मुतालिक अल-अनान हो गयी है। इस वाकिया की अदालती जांच कराने, मुलजिम पुलिस अहलकारों के खिलाफ क़त्ल का मुकदमा करने व मय्यतों के अहले खाना को 20-20 लाख रुपये मुआवजा देने की लोजपा की मांग है।

चिराग पासवान व पार्टी के दीगर लीडर 29 जून को बगहा जायेंगे व उस वाकिया की जांच कर पार्टी को रिपोर्ट सौपेंगे। उत्तराखंड वाकिया पर रियासत हुकूमत संजीदा नहीं है। मौके पर शुबे के सदर पशुपति कुमार पारस, रामचंद्र पासवान, चिराग पासवान, सत्यानंद शर्मा, राघवेंद्र सिंह कुशवाहा वगैरह लीडर मौजूद थे।

TOPPOPULARRECENT