Saturday , January 20 2018

जब मजहबी फर्क भूल मुस्लिम बेटों ने किया हिन्दू माँ का संस्कार

देश के कट्टरपंथी नेता चाहे देश के लोगों को हरे या भगवें रंग में बांटने का कोई भी मौक़ा न छोड़ते हों लेकिन देश के लोगों खासकर जिन्हें पाकिस्तान चले जाओ कहा जाता रहा है के अंदर अपने देश और लोगों को लेकर जो प्यार है उसे लफ़्ज़ों में ब्यान करने बैठें तो शायद सदियाँ गुज़र जाएँ। देश के इन लोगों को अगर मुसलमान,मोहम्मदन या ऐसे किसी नाम से पुकारा जाए तो यह उनके साथ बहुत बड़ी नाइंसाफी होगी क्यूंकि वो शख्श खुद को किसी मजहब का मानने से पहले इस देश का नागरिक मानता है और गर्व से कहता है कि मैं भारतीय हूँ

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

मजहबों की दीवारों को लांघती ऐसी ही एक मिसाल सामने आई महाराष्ट्र के मलाड में जहाँ लोगों के घरों में काम कर अपना पेट पालने वाली एक अकेली हिन्दू औरत सखुबाई की मौत हो जाने पर उसके मुस्लिम पड़ोस ने पूरे हिन्दू रीति-रिवाजों के मुताबिक सखुबाई की अर्थी को कन्धा और चिता को आग दी।

ज्यादातर मुस्लिम परिवारों की रिहायश वाले इस इलाके में रहने वाले लोगों के मुताबिक सखुबाई और उनके पति ने इस इलाके में १९६२ में रहना शुरू किया था। इस दम्पति की कोई भी औलाद या रिश्तेदार नहीं थे। कुछ अर्सा पहले जब सखुबाई के पति की मौत हो गई तो सखुबाई ने लोगों के घरों में काम कर अपना पेट पालना जारी रखा। पिछले दिनों सखुबाई के अचानक बीमार पड़ने पर उनके पड़ोसी जावेद शाह, युसूफ बंदूकवाला और मुस्तफा खान उन्हें गोरेगांव के एक हॉस्पिटल में लेगए और वहां उनका इलाज करवाना शुरू किया लेकिन सखुबाई बचा न सकी।

उनके मरने के बाद उन्हें घर लेकर आये उनके इन्ही पड़ोसियों ने बिना किसी मजहबी सोच को सामने लाते हुए सखुबाई को उनके हिन्दू धर्म की मान्यताओं के मुताबिक रिवाज़ अदा कर अर्थी को कन्धा दिया और शमशान में भी सभी रिवाज़ों को निभाया। मजहबी दूरियों को खत्म करने वाले ऐसे लोगों और उनको ऐसी समझ देने वाले मजहब को हम सलाम करते हैं।

 

TOPPOPULARRECENT