Wednesday , December 13 2017

जम्मू-कश्मीर के ख़ुसूसी मौक़िफ़ की तंसीख़ ख़ारिज अज़ बेहस

नई दिल्ली दस्तूरी तरमीम केलिए हुकूमत को मतलूबा अक्सरीयत हासिल नहीं

नई दिल्ली

दस्तूरी तरमीम केलिए हुकूमत को मतलूबा अक्सरीयत हासिल नहीं

हुकूमत ने आज कहा कि दस्तूर में जम्मू-कश्मीर को ख़ुसूसी मौक़िफ़ का कहीं भी तज़किरा नहीं किया गया है और दस्तूर की दफ़ा 370 ने इस के लिए उबूरी गुंजाइश फ़राहम की है। हुकूमत ने ये भी वाज़िह कर दिया कि अरकान की दरकार तादाद ना होने के सबब मौजूदा मौक़िफ़ तब्दील नहीं किया जाएगा।

मुमलिकती वज़ीर-ए-दाख़िला एचपी चौधरी इस मसला पर एक तहरीरी जवाब में कहा कि जम्मू-कश्मीर के ख़ुसूसी मौक़िफ़ की तंसीख़ का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता। मुमलिकती वज़ीर-ए-दाख़िला किरण रिजीजू ने ज़िमनी सवालात पर जवाब दिया कि किसी दफ़ा की तंसीख़ या इस में तबदील केलिए दस्तूर में तरमीम ज़रूरी होती है और हमारे पास ऐवान में इस मक़सद केलिए अरकान की दरकार तादाद नहीं है।

मिस्टर रिजीजू इस मसले पर जम्मू-ओ-कश्मीर से ताल्लुक़ रखने वाले कांग्रेस के सीनियर लीडर करन सिंह की इस तजवीज़ का जवाब दे रहे थे कि अगर हुकूमत दफ़ा 370 पर दुबारा ग़ौर करना ही चाहती है तो उस को ग़ैरमामूली एहतेयात से काम लेने की ज़रूरत होगी। इस दस्तूर से मुल्क को फ़ायदा या नुक़्सान के बारे में एक सवाल पर मुमलिकती वज़ीर ने जवाब दिया कि वो इस मसले पर तबादला-ए-ख़्याल करना नहीं चाहते।

TOPPOPULARRECENT