Thursday , July 19 2018

जम्मू-कश्मीर में बे-हुरमती के ख़िलाफ़ बंद

श्रीनगर: श्रीनगर के बाज़ इलाक़ों में आज मुसलसल दूसरे दिन भी कर्फ्यू जैसी सूरत-ए-हाल जारी रही ताकि अलाह‌दगी पसंदों के उद्यम पूर में पेट्रोल बम हमलों से हलाकत के ख़िलाफ़ एहतेजाज किया जा सके। अवाम की नक़ल-ओ-हरकत पर रैना वाड़ी, खान्यार , नोहटा, सफ़ाकदल, महाराजगंज , मैसूमा और कराल ख़ुद के इलाक़ों में तहदेदात आइद की गई।

पुलिस के बमूजब शहर के बाज़ इलाक़ों में तहदेदात जारी रखने का फैसला नज़म‍-ओ-ज़ब्त के मसाइल के पेशे नज़र किया गया था। पिलिस और सी आर पी एफ के सिपाही हस्सास इलाक़ों में नज़म‍-ओ‍-ज़ब्त बरक़रार रखने ज़्यादा तादाद में तैनात किए गए थे। एतिदाल पसंद हुर्रियत कान्फ़्रेंस के सदर नशीन मीर वाइज़ उम्र फ़ारूक़ ने सख़्त गैर हुर्रियत कान्फ़्रेंस के सदर सय्यद अली गीलानी, के के एल एफ के सदर मुहम्मद यसीन मलिक , कश्मीर हाइकोर्ट बारएसोसीएशन‌ के सदर मियां मुहम्मद क़य्यूम , शहरी मुआशरे के कारकुनों और दीगर अफ़राद को नमाज़-ए-जुमा के बाद जामा मस्जिद के रूबरू धरने में शामिल होने की दावत दी थी।

पुलिस ने तमाम अलाह‌दगी पसंद क़ाइदीन बिशमोल गीलानी और मीर वाइज़ को घरों पर नज़रबंद कर दिया था। मलिक को पुलिस इस्टेशन कोठी बाग़ में रखा गया था। नज़म‍-ओ‍-ज़ब्त के मसाइल के अंदेशों के पेश नज़र अनंतनाग का ताज़ियती जलसा मंसूख़ कर दिया गया।

जुनूबी कश्मीर में तहदेदात जारी रहीं। कश्मीर यूनीवर्सिटी और पब्लिक सरविस कमुनिकेशन के इमतेहानात जो आज मुक़र्रर थे, मुल्तवी कर दिए गए। भद्रवा से मौसूला इत्तेला के बमूजब एक मख़सूस फ़िर्क़ा के अरकान ने आज एहतेजाजी मुज़ाहरा किया और बंद मनाया। उनका इल्ज़ाम था कि एक पटाखा तय्यार करने वाली कंपनी ने मुक़द्दस किताब के औराक़ की बे-हुरमती की है।

एहतेजाज का आग़ाज़ उस वक़्त हुआ जबकि कल शाम लोगों ने इल्ज़ाम आइद किया कि मज़हबी आयात जो एक काग़ज़ पर तहरीर थी, पटाख़े बनाने के लिए इस्तेमाल किया गया था जबकि दशहरा के दिन सेरी बाज़ार में पुतले नज़र-ए-आतिश किए थे। एहतेजाजियों ने भद्रवा । दौडा शाहराह की नाका बंदी कर दी थी।

पुलिस और सियोल इंतेज़ामिया ने अवामी बरहमी कम करने की कोशिश की।

TOPPOPULARRECENT