Sunday , November 19 2017
Home / Delhi / Mumbai / जम्मू-कश्मीर समस्या से संबंधित सभी लोगों से चर्चा का यकीन, सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल की बैठक

जम्मू-कश्मीर समस्या से संबंधित सभी लोगों से चर्चा का यकीन, सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल की बैठक

नई दिल्ली: सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल जिसने जम्मू कश्मीर का दौरा किया है, आज पुरजोर अंदाज में कहा कि समस्या से रुचि रखने वाले सभी लोगों से संवाद होगा। सरकार ने जवाब व्यक्त करते हुए कहा कि सरकार सभी लोगों से चर्चा के लिए तैयार है। हालांकि अलग होना आतंकवादियों की हुर्रियत का हवाला नहीं दिया गया। सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल की बैठक तीन घंटे तक थी। इस प्रतिनिधिमंडल में 4 से 5 सितंबर जम्मू-कश्मीर का दौरा किया था और भारत। पाक बातचीत के पुनरुद्धार की मांग की गई थी। विश्वास उपायों और दोहरेपन संपर्क का व्यवहार करने पर भी जोर दिया गया ताकि गड़बड़ प्रभावित कश्मीर घाटी में शांति बहाल हो सके।

बैठक की अध्यक्षता केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने की जिन्होंने प्रतिनिधिमंडल भी नेतृत्व किया था। उन्होंने स्पष्ट किया कि राष्ट्रीय संप्रभुता की कीमत पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा। राजनीतिक दलों ने राज्य जनता से अपील की कि हिंसा का रास्ता छोड़ दें और सभी समस्याओं की बातचीत और चर्चा के जरिए की जाए। प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों की राय थी कि सभ्य समाज में हिंसा का कोई स्थान नहीं है। हालांकि कहा कि राष्ट्रीय संप्रभुता के मामले में कोई समझौता नहीं किया जा सकता।

राज्य मंत्री मामूली कार्यालय प्रधानमंत्री जितेंद्र सिंह ने इस संबंध में एक प्रस्ताव का पाठ पढ़कर सुनाया जिसमें केंद्र और राज्य सरकारों से अनुरोध किया गया हैकि सभी इच्छुक व्यक्तियों से बातचीत की जाए। दक्षिणपंथी पार्टियों ने भारत। पाक वार्ता को पुनर्जीवित पर जोर दिया और कहा कि विश्वास उपायों जैसे शहरी क्षेत्रों से अफसपा की बर्खास्तगी की घोषणा की जाएगी। अलग होना आतंकवादियों सहित हुर्रियत का कोई संदर्भ दिए बिना सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल के बयान में केंद्रीय एवं राज्य सरकारों से सभी व्यक्तियों से बातचीत की अपील की गई। कुछ विपक्षी नेताओं हुर्रियत नेताओं से मुलाकात कर चुके हैं कि विभिन्न पक्ष की दखानों में हैं, कट्टरपंथी सैयद अली शाह गिलानी ने उनसे मुलाकात से इनकार कर दिया। इस सवाल पर कि क्या अलग होना आतंकवादियों को भी समस्या से रुचि रखने वालों में शामिल किया जाएगा।

जितेंद्र सिंह ने कहा कि कहा कि रुचि रखने वाले सभी लोगों से बातचीत की जाएगी। हालांकि उन्होंने अपने बयान की व्याख्या नहीं की। इसी तरह के सवाल पर कांग्रेस नेता कृपया लोकसभा मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा कि अलग होना आतंकवादियों का संघ रुचि रखने वाले सभी लोगों में शामिल है। माकपा के सीताराम येचुरी ने कहा कि महबूबा मुफ्ती आभरकयादत जम्मू-कश्मीर सरकार से चर्चा की कोई बात नहीं हुई। उन्होंने कहा कि यह आरोप-प्रत्यारोप का समय नहीं है बल्कि राष्ट्र के रूप में काम करने का समय है ताकि कश्मीर घाटी में शांति बहाल किया जा सके। खरगे ने कहा कि हालांकि सरकार ने पैलेट गनस बजाय मिर्च से तैयार किया है। हालांकि पैलेट बंदूक से चोटों से कल एक व्यक्ति मर गया। बैठक में केंद्र और राज्य दोनों सरकारों से शैक्षिक संस्थानों, सरकारी कार्यालयों और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों के अनुकूलन सामान्य काम जल्द से जल्द सुनिश्चित करने की मांग की गई।

सरकारों से सभी नागरिकों से सुरक्षा सुनिश्चित करने के उपाय और उन्हें चिकित्सा की आपूर्ति और विरोध में घायल सैनिकों को चिकित्सा सहायता प्रदान करने का पुरजोर मांग की गई। सीताराम येचुरी ने रखरखाव विश्वास कदम भारत। पाक वार्ता को पुनर्जीवित पर जोर दिया।

TOPPOPULARRECENT