जयललिता की बेटी होने का दावा करने वाली महिला की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज

जयललिता की बेटी होने का दावा करने वाली महिला की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज
Click for full image

चेन्नई। तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की मौत के बाद से कई नए-नए दावे सामने आए और उनकी मौत पर भी सवाल उठाए गए थे। इन सब दावों और विवादों के बीच अब एक महिला सामने आई है, वह खुद को जयललिता की बेटी होने का दावा कर रही है।

बेंगलुरु की रहने वाली 37 वर्षीय अमृता मंजुला ने दावा किया कि वह जयललिता की बेटी है। उसने इसके तहत सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी जिसे कोर्ट ने आज खारिज कर दिया। जस्टिस एमबी लोकुर और जस्टिस दीपक गुप्ता की बेंच ने महिला द्वारा डीएनए टेस्ट कराने की मांग को भी खारिज कर दिया है।

उल्लेखनीय है कि मंजुला ने कोर्ट में दायर अपनी याचिका में दावा किया था कि जयललिता की बड़ी बहन शैलजा और उनके पति सारथी ने उसे पाला है। हालांकि उन्होंने कभी भी उसको यह नहीं बताया कि वह जयललिता की बेटी है लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री की मौत के बाद उसके सामने यह राज खोला गया। जयललिता की बड़ी बहन शैलजा का देहांत 2015 में हो गया था।

Top Stories