Saturday , December 16 2017

जरूरी नहीं कि वीजा धोखा धड़ी संगीन जुर्म हो: अमेरिकी वकील

अमेरिका के एक सीनीयर वकील के मुताबिक उनका मुल्क हिंदुस्तानी सिफारतकार देवयानी खोबरागड़े के खिलाफ मुबय्यना तौर पर वीजा धोखाधड़ी का मामला वापस ले सकता है, हालांकि उसे अदलिया के सामने कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है |

अमेरिका के एक सीनीयर वकील के मुताबिक उनका मुल्क हिंदुस्तानी सिफारतकार देवयानी खोबरागड़े के खिलाफ मुबय्यना तौर पर वीजा धोखाधड़ी का मामला वापस ले सकता है, हालांकि उसे अदलिया के सामने कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है |

अलबामा के शुमाली जिले के साबिक सरकारी वकील और नेशनल एसोसिएशन आफ फार्मर यूएस अटार्नी के खजांची जी डगलस जोन्स ने बताया कि मुझे लगता है कि इस मामले में मामला जिस्मानी तौर से बदसुलूकी का नहीं बल्कि कम तंख्वाह का ज़्यादा है, मुझे लगता है कि यह मामला संगीन जुर्म अपराध की ओर बढ़ता है न कि जरूरी तौर पर संगीन जुर्म की ओर |

हिंदुस्तान ने 39 साला देवयानी की गिरफ्तारी का शख्त मुखालिफत करते हुए दलील दी है कि उनके खिलाफ वीजा धोखाधड़ी का इल्ज़ाम इतना संगीन नहीं है कि उन्हें गिरफ्तार किया जाये लिहाजा अमेरिका ने 1963 के तिजारती सिफारतखाने से मुताल्लिक वियना समझौते की खिलाफवर्जी की है |

बहरहाल अमेरिका ने इसे संगीन जुर्म करार दिया है। जोन्स ने इस बात पर सहमति जतायी है कि वियना समझौते के तहत जुर्म की तशरीह करना एक गैर वाजेह है और यह मुंसलिक हुकूमत (Affiliate government) पर मुंहसिर करता है कि वह इसकी कैसे तशरीह करती है।

TOPPOPULARRECENT