Thursday , December 14 2017

जर्मनी: इस्लाम विरोधी दल “AFD” और मुसलमानों के प्रतिनिधि संगठन में वार्ता नाकाम

जर्मनी इस्लाम विरोधी दल ‘अल्ट्रा नीटयू फॉर जर्मनी’ AfD और जर्मनी में मुसलमानों की प्रतिनिधि संगठनों के प्रमुख के बीच होने वाली वार्ता कड़वाहट पर खत्म हो गए हैं। मुस्लिम समुदाय के प्रमुख का कहना है कि बातचीत AfD ने तोड़े हैं।

‘सेंट्रल काउंसिल ऑफ मुस्लिम्ज़ इन जर्मनी’ ZDM दरअसल जर्मनी में मौजूद मुसलमानों की 30 से अधिक संगठनों का प्रतिनिधित्व करती है। ZDM प्रमुख अयमन माज्येक ने ए एफ डी नेता फाराउके पीटर को बातचीत के लिए आमंत्रित किया था, इस उम्मीद में कि शायद इस तरह उनकी पार्टी के इस्लाम विरोधी दृष्टिकोण में नरमी आ सके।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

हालांकि महज एक घंटे से भी कम समय में यह बातचीत कड़वाहट पर खत्म हो गई और अयमान माज्येक बेहद दक्षिणपंथी की इस पार्टी पर आरोप लगाया कि वह एक पूरी धार्मिक समुदाय के खिलाफ निराधार राय को आगे बढ़ाकर सामाजिक शांति को खतरे में डाल रहे हैं.

पीटर ने इस दौरान पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि उन्हें इस बैठक को समाप्त करना पड़ा क्योंकि बातचीत का जो लक्ष्य होना चाहिए था वह उस पर आने में विफल रहे। पीटर के अनुसार इस बैठक का उद्देश्य उस मुद्दे पर बात करना था कि ” एक धर्मनिरपेक्ष समाज और इस्लाम के विभिन्न मूल्यों को एक साथ कैसे चलाया जा सकता है। ”

ए एफ डी नेता फाराउके पीटर के अनुसार वह व्यक्तिगत रूप से अयमन मज्येक के उन आरोपों पर उत्तेजित हुईं कि ए एफ डी दारासल ‘नाजी युग’ की एक पार्टी है। पीटर के अनुसार उन्होंने और उनके साथ इस बातचीत में शामिल उप पार्टी प्रमुख अल्बर्टशिट ग्लेज़र और बोर्ड के सदस्य पॉल हांपल ने ‘विनम्रता के साथ कई बार कहा कि इस तरह उपमा दिए जाने को वापस लिया जाए।’ ‘

पक्षों के बीच एक विवादास्पद मामला ए एफ डी के घोषणापत्र में शामिल वह बिंदु है जो अतीत में भी विभिन्न कंजरवेटिव नेताओं द्वारा सुनाई देता रहा है लेकिन किसी भी दल ने उसे औपचारिक रूप से अपने कार्यक्रम का हिस्सा नहीं बनाया है। और यह बात है ” इस्लाम जर्मनी से संबंध नहीं रखता। ‘

ए एफ डी से यह बात अपने घोषणापत्र में शामिल किए जाने के बाद अयमन माज्येक ने दावा किया था कि यह वास्तव में जर्मन संविधान के खिलाफ है। उन्होंने उस दृष्टिकोण को नाजी युग कहा था कि ए एफ डी के नेताओं के शोक और गुस्से की वजह बना। माज़ेक के अनुसार हिटलर शासन के पतन के बाद जर्मनी की किसी भी पार्टी ने कभी ” एक पूरे धार्मिक समूह को इस तरह अलग-थलग करके अपने अस्तित्व को खतरे से दोचार  नहीं किया। ”

इस बैठक में भी माज्येक ने इस उपमा को वापस लेने से इनकार कर दिया। उन्होंने इस मौके पर इकट्ठे हुए पत्रकारों को बताया कि ए एफ डी के घोषणापत्र उन्हें जर्मनी के इतिहास का ‘ब्लेक डे’ याद दिला दिया है ।

TOPPOPULARRECENT