Monday , September 24 2018

जलीकट्टू पर प्रदर्शन हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए सबक है: ओवैसी

नई दिल्ली: असदुद्दीन ओवैसी ने तमिलनाडु में जलीकट्टू पर सुप्रीम कोर्ट के बैन के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन ट्वीटकर कहा है कि यह प्रदर्शन हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए सबक है। ओवैसी ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर लिखा है, “जलीकट्टू पर हो रहे प्रदर्शन हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए सबक है। यूनिफॉर्म सिविल कोड को इस देश पर थोपा नहीं जा सकता। क्योंकि यहां सिर्फ एक संस्कृति नहीं है। हम सभी का जश्न मनाते हैं।”

#Jallikattuprotest Lesson for Hindutva forces,Uniform Civil Code cannot be “imposed”this nation cannot have one CULTURE we celebrate all

— Asaduddin Owaisi (@asadowaisi) January 20, 2017

बता दें कि अभिनेता कमल हासन, रजनीकांत और धनुष जैसे कलाकारों ने इस खेल का समर्थन करते हुए कहा है कि यह खेल तमिल संस्कृति का हिस्सा है और वो इसका समर्थन करते हैं। दूसरी तरफ राज्य के मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने भी इसको लेकर गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की है। वहीं आज संगीतकार ए.आर. रहमान जलीकट्टू के समर्थन में अनशन पर हैं।

गौरतलब है कि तमिलनाडु में जल्लीकट्टू सांडों का खेल है जिसमें साड़ों के सींग पर कपड़ा बांधा जाता है और जो खिलाड़ी सांड के सींग पर बांधे हुए इस कपड़े को निकाल लेता है उसे ईनाम दिए जाते है। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने कुछ दिनों पहले इस खेल पर रोक लगा दिया है। भारत पशु कल्याण समिति और पीपुल फॉर द एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स (पेटा) जैसे संस्थाओं का मानना है कि इस खेल से जानवरों नुकसान पहुंचता है इसलिए इसे बंद किया जाना चाहिए। इसी को लेकर इन संस्थाओं ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाली थी।

TOPPOPULARRECENT