Sunday , December 17 2017

जवाबी पर्चों में नारे तहरीर करना ममनूआ

हैदराबाद 6 जनवरी ( एजैंसीज़) तलबा को जज़बात से सरशार होकर इमतिहान हाल पहूंचने और जवाबी पर्चों में नारे तहरीर करने की सज़ा भी सख़्त दी जा सकती है । जो तलबा-अपने जवाबी पर्चे में नारे या मज़हबी निशान उतारेंगे तो उन का ये अमल बदउनवानी क

हैदराबाद 6 जनवरी ( एजैंसीज़) तलबा को जज़बात से सरशार होकर इमतिहान हाल पहूंचने और जवाबी पर्चों में नारे तहरीर करने की सज़ा भी सख़्त दी जा सकती है । जो तलबा-अपने जवाबी पर्चे में नारे या मज़हबी निशान उतारेंगे तो उन का ये अमल बदउनवानी के तहत मुस्तौजिब सज़ा (काबिल-ए- सज़ा) और उन्हें बोर्ड इमतिहान से एक ता 8 साल तक मुअत्तल किया जा सकता है । ज़राए ने बताया कि ऐसा जवाबी पर्चा काबिल-ए-क़बूल नहीं होगा और इस को नाकारा क़रार दे कर उम्मीदवारों को नाकाम बना दिया जाय गा जवाबी पर्चों पर किसी किस्म की मुख़ालिफ़ क़वाइद तहरीर पर कार्रवाई करने के क़वानीन बरसों से मौजूद हैं लेकिन बोर्ड ने इस पर सख़्ती से अमल आवरी नहीं की ।

गुज़शता चंद बरसों से बोर्ड ने इस पर अमल नहीं किया ताहम बोर्डस ने अब तलबा-ए-को सख़्त वार्निंग जारी की है कि वो अपने पर्चों में जुए तेलंगाना या जुएसमीका आंधरा जैसे नारे ना लिखें जब तेलंगाना एहतिजाज शिद्दत पर था उस वक़्त कई उम्मीदवारों ने अपने पर्चों में मज़कूरा नारे तहरीर किए थे । ताहम कई तलबा- अपने जवाबी ब्याज़ में ख़ुदा के नाम तहरीर करते हैं और बाअज़ मज़हबी निशानात की नक़्श निगारी करते हैं लेकिन अब हुकूमत और तालीमी बोर्डस ने ऐसी हरकतों को रोकने के क़दम उठाए हैं वज़ीर सानवी तालीम मिस्टर के पार्था सारथी ने कहा कि जवाबी बयाज़ात में सयासी नारे और मज़हबी अलामतें तहरीर करना ममनूआ है इस लिए अब हुकूमत ऐसे अवामिल को सख़्ती से रोक देगी ।

ऐस एससी और एंटर मीडीट बोर्डस के ओहदेदारों ने कहा कि वो ममतहीन हज़रात को सख़्त हिदायात जारी करें कि वो उसूलों-ओ-क़वाइद से मुताल्लिक़ तलबा-ए-को वाक़िफ़ कराईं । इमतिहानात केमराकज़ पर जवाबी पर्चों में किसी किस्म के नारे तहरीर नहीं करने की हिदायत दी जा रही है ।

TOPPOPULARRECENT