Tuesday , December 12 2017

जस्टिस पीपी नावलेकर का चेहरा मोहन भागवत के चेहरे पर लगाने के मामले में कांग्रेस नेता को दो साल कैद

भोपाल : मध्य प्रदेश की पूर्व कांग्रेस विधायक कल्पना परूलेकर को जस्टिस पीपी नावलेकर का चेहरा मोहन भागवत के चेहरे पर लगाने के जुर्म में स्थानीय अदालत ने दो साल कठोर कारावास और 12 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनायी है। अदालत ने अपने फैसले में कहा कि परूलेकर की हैसियत लोकतांत्रिक संवैधानिक संस्था के सदस्य की है। लेकिन, उनकी ख्याती के अनुरूप उच्च आचरण मूल्यों के अनुसार आचरण दर्शित नहीं होता। ऐसे आचरण की किसी निर्वाचित जनप्रतिनिधि से कतई अपेक्षा नहीं की जा सकती है। इससे जन सामान्य में गलत संदेश जाता है।

संवैधानिक पदों पर बैठे हुए व्यक्तियों को बिना किसी आधार के चरित्र हनन करने से मर्यादा को लांछन लगाने की प्रवृत्ति को प्रोत्साहन मिलता है। किसी भी राजनैतिक दल के सदस्य को इस बात की इजाजत नहीं दी जाना चाहिए कि वह अन्याय के खिलाफ आवाज उठाने के नाम पर ऐसा असंवैधानिक काम करे।

अदालत ने कहा कि किसी जनप्रतिनिधि से ऐसे आचरण की उम्मीद नहीं की जाती। इससे जनता में गलत संदेश जाता है। अदालत ने कहा कि ऐसे कृत्यों से आधारविहीन दोषारोपण को बढ़ावा मिलता है। अदालत ने कहा कि किसी भी राजनीतिक दल को ये अधिकार नहीं मिलना चाहिए वो अन्याय के प्रतिकार के नाम पर असंवैधानिक काम करे। अदालत ने कहा कल्पना परुलेकर ने जानबूझकर ये किया है इसलिए उन्हें दण्ड देना आवश्यक है। कल्पना परूलेकर उज्जैन के महीदपुर विधान सभा से विधायक थीं।

TOPPOPULARRECENT