Tuesday , August 14 2018

ज़िम्नी इंतेख़ाबात(उप चुनाव) पर जुमेरात(गुरुवार) को कुल जमाती इज्लास(सभा)

* ज़ाबता अख़लाक़(अखलाक नीयमों) के सख़्ती से निफ़ाज़(लागू करने) के लिए 12 डिस्ट्रिक्ट कलेक्टरों को भंवरलाल की हिदायत

* ज़ाबता अख़लाक़(अखलाक नीयमों) के सख़्ती से निफ़ाज़(लागू करने) के लिए 12 डिस्ट्रिक्ट कलेक्टरों को भंवरलाल की हिदायत
हैदराबाद (सियासत न्यूज़ ) रियासत में 18 हल्क़ा जात असेंबली और एक हल्क़ा लोक सभा के लिए आइन्दा(अगले) माह 12 जून को मुनाक़िद होने वाले ज़िम्नी इंतेख़ाबात(उप चुनाव) के सिलसिले में 17 मई को सहपहर तीन बजे सेक्रेटेट‌ में वाके रियास्ती चीफ़ इलैक्ट्रॉल ऑफीसर के चैंबर में कुल जमाती इज्लास तलब किया गया है(मीटींग बुलाइ गइ है) ।

इस मुजव्वज़ा कुल जमाती इज्लास(तय कुल जमाती सभा) में क़ौमी-ओ-रियास्ती सतह की मुस्ल्लिमा सयासी जमातों को मदऊ किया(बूलाया) जा रहा हैता कि इन सयासी जमातों के क़ाइदीन को इंतेख़ाबी ज़ाबता अख़लाक़ ज़रूरी इंतेख़ाबी क़वानीन के इलावा मुजव्वज़ा ज़िमनी इंतेख़ाबात के सिलसिले में किए जाने वाले इंतेज़ामात वग़ैरा से वाक़िफ़ करवाया जा सके इलावा अज़ीं(इस के इलावा)रियासत में मुनाक़िद होने वाले मज़कूरा ज़िम्नी इंतेख़ाबात के सिलसिले में मर्कज़ी इलैक्शन कमीशन भी अपनी रास्त निगरानी रखे हुए है जिस के नतीजे में रियासत के 12 ज़िला कलेक्टरों और डिस्ट्रिक्ट उच्च पुलिस अधीकारीयों को दी गई हिदायात की रोशनी में ज़िम्नी इंतेख़ाबात मुनाक़िद होने वाले 12 अज्ला में इंतेख़ाबी ज़ाबता अख़लाक़ पर सख़्ती के साथ निफ़ाज़ अमल में लाया जा रहा है(काइदे को लागू किया जारहा है) ।

इसी दौरान आज शाम सेक्रेटेट में मुलाक़ात करने वाले अख़बारी नुमाइंदों से ग़ैर रस्मी(निजी) बातचीत करते हुए रियासती चीफ इलैक्ट्रॉल ऑफीसर मिस्टर भंवरलाल ने बताया कि जिन अज्ला में ज़िमनी इंतेख़ाबात(उप चुनाव) मुनाक़िद होरहे हैं, इन अज्ला में 10 जनवरी 2012 तक क़तईयत दी गई फ़हरिस्त राय दहिंदगान(वोट देने वालो कि फाइनल लिस्ट) की बुनियाद पर ही ज़िमनी इंतेख़ाबात मुनाक़िद होंगे।

इलावा अज़ीं(इस के इलावा) एसे राय दहिंदगान(वोट देने वाले) जिन के नाम क़तईयत दी गई फ़हरिस्त राय दहिंदगान में शामिल ना होँ, इन राय दहिंदगान(वोट देने वालों) के लिए अपने नाम फ़हरिस्त राय दहिंदगान में शामिल करवा लेने के लिए गुंजाइश फ़राहम करते(देते) हुए जारीया(इस) माह 25 मई आख़िरी तारीख मुक़र्रर(तय) की गई है।

मिस्टर भंवरलाल ने वाज़िह तौर पर कहा कि जिन अफ़राद(लोगों) के नाम फ़हरिस्त राय दहिंदगान में शामिल नहीं हैं, वो किसी भी वक़्त अपने नाम दर्ज करवाते हुए फ़हरिस्त में अपना नाम शामिल करवा सकते हैं, लेकिन मुजव्वज़ा(तय) 18 असेंबली और एक हलक़ा लोक सभा के लिए 25 मई के बाद नाम शामिल करवाने वाले राय दहिंदों के नाम ज़िमनी इंतेख़ाबी फ़हरिस्त में शामिल नहीं किए जा सकेंगे और 25 मई के बाद शामिल करवाने वाले राय दहिंदों को राय दही के इस्तिमाल का हक़ हासिल नहीं होसकेगा।

रियास्ती चीफ इलेक्ट्रोरल‌ ऑफीसर मिस्टर भंवरलाल ने बताया कि साल 2009 में मुनाक़िदा(हुए) इंतेख़ाबात के बाद फ़हरिस्त राय दहिंदगान को कंप्यूटराईज़ड करने और सिर्फ किसी एक मुक़ाम पर राय दीहिन्दों के नाम शामिल रहने को यक़ीनी बनाने के बाद साल 2009 में क़तईयत दी गई फ़हरिस्त राय दहिंदगान के मुक़ाबला में मौजूदा फ़हरिस्त राय दहिंदगान में राय दहिंदों की तादाद में कमी वाके हुई है। क्योंकि फ़हरिस्त राय दहिंदगान को बाक़ायदा बनाते हुए यकसानियत(एक जौसा) पैदा की गई है ।

उन्हों ने हलक़ा लोक सभा ओंगोल का तज़किरा(जिकर) करते हुए बताया कि सिर्फ एक हलक़ा ओंगोल में 40 हज़ार राय दहिंदों की तादाद में कमी वाके हुई है । बताया जाता है कि राय दहिंदों(वोटरों) की जांच के दौरान इन राय दहिंदों के नाम किसी और मुक़ामात पर भी पाए गए और कई राय दहिंदगान मुल्क से बाहर क़ियाम करने और बाज़ राय दहिंदों की मौत वाके होजाने के बावजूद भी उन के नाम फ़हरिस्त राय दहिंदगान में पाए जा रहे थे । लिहाज़ा इस नौईयत(प्रकार) के राय दहिंदों के नामों को फ़हरिस्त राय दहिंदगान से निकाल दीए जाने की वजह से जुमला(कुल) राय दहिंदों की तादाद में कमी वाके हुई है ।

इस सवाल पर कि आया एसी सयासी पार्टीयां ख़ुद अपना अख़बार चलाती हैं और इंतेख़ाबात(चुनाव) के मौके पर अपने उम्मीदवार के ताल्लुक़ से अपने अख़बार में बड़े पैमाने पर ख़बरें शाये करते हुए(छापते) बड़े पैमाने पर तशहीर(प्रचार) करती हैं । तो क्या वो न्यूज़ आइटम‌ (पेड न्यूज़ ) तसव्वुर की जाएंगी । जवाब देते हुए रियास्ती चीफ़ इलेक्टोरल ऑफीसर ने कहा कि इस तरह के वाक़ियात पर नज़र रखने और चीफ़ इलैक्ट्रॉल ऑफीसर या डिस्ट्रिक्ट इलैक्शन ऑफीसर (ज़िला कलेक्टर ) को वाक़िफ़ करवाने के लिए रियास्ती सतह पर जवाइंट चीफ़ इलैक्ट्रॉल ऑफीसर की सदारत में पी आई बी ,दूरदर्शन केंद्र के इलावा सीनीयर सहाफ़ीयों पर मुश्तमिल एक अलाहिदा कमेटी होगी और ज़िला सतह पर ज्वाइंट कलेक्टर की सदारत में डी पी आर ओ ,प्रिंट और इलैक्ट्रॉनिक मीडीया के सीनीयर सहाफीयों पर मुश्तमिल(को शामील) कमेटी होगी । और ये कमेटियां अख़बारात-ओ-टेलीविज़न वग़ैरा का मुशाहिदा करके अपनी रिपोर्टस से चीफ़ इलैक्ट्रॉल ऑफीसर ,जवाइंट कलेक्टर अज़ला को वाक़िफ़ करवायेगि और उन रिपोर्टस की बुनियाद‌ पर ही उम्मीदवार के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई करने या पेड न्यूज़ होने की सूरत में इस के मसारिफ़ मुताल्लिक़ा उम्मीदवार के अख़राजात इंतेख़ाबात में शामिल किए जाएंगे और इस का निफ़ाज़ उम्मीदवार के पर्चा नामज़दगी(नाम दाखील करवाने) की तारीख़ से लेकर इंतिख़ाबी नताइज तक जारी रहेगा ।

TOPPOPULARRECENT