Friday , November 24 2017
Home / Delhi / Mumbai / जातियों का झगड़ा, मोदी के लिए खतरा

जातियों का झगड़ा, मोदी के लिए खतरा

नई दिल्ली: हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में रोहित वेमुला की आत्महत्या के विवाद का कोई हल बरामद होने से पहले ही योग्यता के विभिन्न शिकायतों प्रधानमंत्री कार्यालय पहुंच रही हैं। राजस्थान सेंट्रल यूनिवर्सिटी के एक छात्र ने स्टूडेंट वेलफेयर डीन पर विशिष्ठ बरतने का आरोप लगाते हुए आत्महत्या की धमकी दी है जबकि बीआर अंबेडकर यूनिवर्सिटी लखनऊ 2 महिला पीएचडी विद्वानों ने भी एक हेड ऑफ द डिपार्टमेंट में भेदभाव का आरोप लगाया।

इन छात्रों ने अपनी शिकायतों को केंद्र सरकार से संपर्क किया है और यह दावा किया है कि यूनिवर्सिटी प्रशासन ने दोषियों के खिलाफ कोई कार्य‌वाई नहीं की है। दूसरी ओर मानव संसाधन विकास मंत्रालय आरोपों के घेरे में है जिसने कुछ छात्रों के खिलाफ हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी पर दबाव डाला था लेकिन मंत्रालय ने इस तरह के आरोपों को खारिज कर दिया और यह दावा किया कि यूनिवर्सिटी के नियम और कानून के अनुसार कार्य‌वाई की गई थी जबकि यूनिवर्सिटी  के खिलाफ ताजा शिकायतों पर टिप्पणी से परहेज किया गया।

लेकिन शिकायतों प्राप्त होने की पुष्टि की गई है और बताया कि प्रचलित विधि (तंत्र) के तहत इन शिकायतों की यकसूई की जाएगी। राजस्थान यूनिवर्सिटी के एक छात्र ने कि वाणिज्य में मास्टर डिग्री कर रहा है यह आरोप लगाया कि स्पोर्ट्स गतिविधियों में प्रगति को डीन(dean) जानबूझकर रोक दी है और राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लेने से वंचित कर दिया है। इस छात्र ने प्रधानमंत्री और मंत्री मानव संसाधन (मानव संसाधन विकास) को मकतोबात रवाना करते हुए खुद सोज़ी लेने की अनुमति मांगी है।

उन्होंने अपनी शिकायत में बताया कि पूर्व में भी छात्रों के साथ भेद बरने के घटनाएं आ चुके हैं। इसलिए उक्त डीन के खिलाफ कार्रवाई करने की जरूरत है। अगरचे यूनिवर्सिटी छात्र की शिकायत की समीक्षा के लिए एक समिति का गठन किया है लेकिन उसने यह सिफारिश की है कि मामले की जांच एक स्वतंत्र (जिसका संबंध यूनिवर्सिटी से न हो) समिति से कराई जाए क्योंकि दान समिति की ईमानदारी पर सवाल उठाते हुए सहयोग से इनकार कर दिया है।

एक और महिला विद्वान ने बताया कि पिछले एक साल से शिकायतें की जा रही हैं लेकिन यूनिवर्सिटी अधिकारियों मौखिक वादे करके समस्या को टाल दे रहे हैं जबकि उत्पीड़न का सिलसिला भी जारी है। सितम पराबैंगनी सितम हमारे पीएचडी डिग्री को भी स्वीकार नहीं किया जा रहा है, जिससे छात्र अब यूनिवर्सिटी के बहिष्कार पर मजबूर हो जाएंगे क्योंकि देरी की वजह से हमारा कैरियर और रोजगार के अवसर प्रभावित हो सकते हैं।

इन परिस्थितियों में न्याय की उम्मीद के साथ हम केंद्र सरकार से शिकायत की है। इस बीच राजनीतिक पर्यवेक्षकों का कहना है कि हिंदू राष्ट्र का सपना लेकर जब से भाजपा केंद्र में सत्ता में आई है उस समय से आए दिन कोई न कोई विवाद पैदा हो रहा है। शुरुआत में संघ परिवार ने ईसाइयों और मुसलमानों को निशाना बनाया लेकिन अब आरक्षण की मांग पर विभिन्न जाति के लोग सरकार के खिलाफ खड़े हो गए। राजस्थान में गुज्जर समुदाय और गुजरात में पटेल समुदाय और हरियाणा में जाट समुदाय ने हिंसक विरोध आंदोलन भी चलाया है और यूनिवर्सिटियों में संघ परिवार की विचारधारा को थोपने के प्रयास के खिलाफ भी छात्रों प्रतिरोध के लिए प्रतिबद्ध हो गए क्योंकि भारत में दलित और मुसलमान शोषण और पिछड़ेपन का शिकार हैं अब उन्हें भी एकजुट होने की जरूरत है। सांप्रदायिकता और जातिवाद की योग्यता के खिलाफ संघर्ष करने की जरूरत है ताकि देश में सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक बदलाव लाया जा सके।

TOPPOPULARRECENT