जानलेवा बना चिकनगुनिया, दिल्ली में अबतक 11 की मौत

जानलेवा बना चिकनगुनिया, दिल्ली में अबतक 11 की मौत

एक मच्छर दिल्ली पर भारी पड़ रहा है. सिविक एंजेसियों की लापरवाही कहें या मच्छरों का डंक. सच तो ये है कि राजधानी में चिकनगुनिया से होने वाली मौतों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है. सरकारी अस्पतालों में व्यवस्था की बात तो छोड़िए दिल्ली के हाईटेक प्राइवेट अस्पतालों में भी डेंगू और चिकनगुनिया के मरीज लाशों में तब्दील हो रहे हैं. अपोलो अस्पताल में पिछले तीन सप्ताह में चिकनगुनिया से पांच मौते हो चुकी हैं. इसके साथ ही राजधानी में चिकनगुनिया से अब तक कुल 11 लोगों की जान जा चुकी है.

मंगलवार को गंगाराम अस्पताल ने चिकनगुनिया की वजह से ही चार लोगों की मौत की पुष्टि की थी, तो वहीं एक और मरीज ने बाडा हिंदूराव अस्पताल में दम तोड़ा. लेकिन बुधवार की सुबह चिकनगुनिया से होने वाली मौतों आंकड़ा दहाई का अंक पार कर गया. अपोलो अस्पताल में जिन पांच लोगों की मौत चिकनगुनिया से हुई उनमें तीन मरीज 80 साल के अधिक उम्र के थे, तो वहीं एक 45 साल की महिला की मौत चिकनगुनिया से हुई. अपोलो अस्पताल के मुताबिक 31 साल के एक मरीज की मौत डेंगू और चिकनगुनिया दोनों की वजह से हुई है. अपोलो अस्पताल में हुई इन पांच मौतों को मिलाकर अब राजधानी में चिकनगुनिया से मरने वाले लोगों की तादाद 10 हो गई है. हालांकि दिल्ली सरकार की दलील है कि 10 सितंबर तक राजधानी में चिकनगुनिया से कोई मौत नहीं हुई है. दिल्ली सरकार ने चिकनगुनिया से हुई मौतों की पुष्टि करने वाली रिपोर्ट पर जांच के आदेश भी दे दिए हैं.

Top Stories