Monday , December 11 2017

जानिए शाह अब्दुल अज़ीज़ ने ‘बाबे काबा’ कैसे बनवाया?

रियाद: सऊदी अरब के संस्थापक शाह अब्दुल अजीज बिन अब्दुल रहमान आले सऊद ने सत्ता संभालने के बाद बैतुल्लाह का ख्याल रखने की जिम्मेदारियां निभाने का फैसला किया।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

बैतुल्लाह के अन्य अनुकरण के साथ सन् 1363 हिजरी में उन्होंने काबा के मुख्य द्वार को नए तरीके से तैयार करने का बीड़ा उठाया।
सऊदी अरब की सरकारी प्रेस एजेंसी ‘वास’ ने ‘बाबे काबा’ की तैयारी के चरणों और प्रक्रियाओं पर प्रकाश डाला है।
रिपोर्ट में बताया गया है कि बाबे काबा की तैयारी में तीन साल का समय लगा। बाबे काबा सामान्य अनुकूलन दो भागों में शामिल रहा। दरवाजे के दोनों पॉट ठोस लोहे के आधार पर तैयार किए गए मगर उनके उपर लकड़ी का काम किया गया। लकड़ी के काम पर कढ़ाई के साथ साथ उस पर सोने और चांदी के पानी की कलई की गई। इसके अलावा दरवाज़े के चरों ओर में तितली के आकार में फूलों की कढ़ाई और पीतल की छोटी पट्टियों से उसे सजाया गया।
बाबे काबा का सामने वाला हिस्सा आयताकार आकार में तैयार किया गया जिसके ऊपरी हिस्से को एक मजबूत सजावटी बैंड के माध्यम से घेरा गया। इसे और अधिक सुंदर बनाने के लिए सुडौल सिरों वाली शाखा जिसकी चोटी पर एक दानेदार पत्ता विकसित किया गया के रूप में सुरुचिपूर्ण किया गया और उसके अंदर सात पत्तियों वाले फूल बूटे बनाए गए। इसी पैटर्न पर पूरी ऊपरी पट्टी तैयार की गई।
आयत और ऊपरी स्तर पर आधे चक्र के रूप में तैयार किया गया बाबे काबा में चार आयताकार आकार बनाई गईं जिनमें विभिन्न रचनाएं लिखी गईं। बाबे काबा के सभी कोनों को एक, दो, तीन और पांच पत्तों वाले फूलों से सजाया गया।
बाबे काबा के सामने वाले ऊपरी भाग के ऊपर अरबी गुलकारी की गई। ऊपरी अनुबंध को अधिक सुंदर और आकर्षक बनाने के लिए उस पर पीतल, सोने और चांदी के पानी लेपित किया गया था। ऊपरी पट्टी के बीच में सात पत्तियों वाले फूल जिनके बीच एक सितारा बनाया गया । यूं बाबे काबा की कुल 20 पट्टियों को एक ही तरीके से तैयार किया गया।
उम्मुल क़ुरा विश्वविद्यालय में इतिहास एवं इस्लामी सभ्यता के शिक्षक डॉ नासिर बिन अल हारिसी के विस्तृत लेख ‘शाह अजीज की मक्का में निर्माण की गतिविधियां’ में बाबे काबा की तैयारी पर भी प्रकाश डाला गया है। डॉ नासिर लिखते हैं कि बाबे काबा के दाईं, बाईं और ऊपरी भाग में 114 हीरे भी जोड़े गए। बाबे काबा के दोनों पाटों की मोटाई 9 सेमी, पाटों के स्तर से ऊंचाई छह सेमी है. बाबे काबा के चार दस्ते और दो ताले [ताला] हैं। दो दस्ते गोल आकार में 9 सेमी के दायरे में बनाए गए हैं जबकि बाबे काबा के 20 सतह जमीन से नौ सेंटी मीटर ऊंचा है।

TOPPOPULARRECENT