जानें, लेबनान के एक जज ने तीन मुसलमानों को सूरह अल-इमरान पढ़ने का आदेश क्यों दिया?

जानें, लेबनान के एक जज ने तीन मुसलमानों को सूरह अल-इमरान पढ़ने का आदेश क्यों दिया?

त्रिपोली : एक लेबनान के जज ने तीन मुस्लिम युवकों को एक आदेश दिया है कि वो कुरान के अल-इमरान सूरह की आयतें याद रखे जो मरियम और इशा अलेहिस सलाम की गुणगान करते हैं। तीन मुस्लिम युवकों ने ईसाई धर्म का अपमान किया था जिसकी वजह से जज ने ये आदेश दिया है.

धर्म की अवमानना ​​पर जेल की सजा की सजा देने के बजाय, जोकलीन मैटा ने युवाओं को रिहा होने के साथ ही उन आयतों को याद करने का आदेश दिया है। पिछले हफ्ते लेबनान के उत्तर में त्रिपोली के न्यायालय में फैसले को पढ़ते हुए, जज मैटा ने कहा कि उनके निर्णय का उद्देश्य युवाओं को इस्लाम की सहिष्णुता और मरियम से प्यार करने के बारे में सिखाना है।

जज ने कहा “कानून सिर्फ एक जेल नहीं बल्कि एक स्कूल भी है,” प्रधान मंत्री साद हरिरी ने ट्विटर पर इस कदम की प्रशंसा की, जिसमें उनके फैसले न्याय को दर्शाता है और मुसलमानों और ईसाइयों के बीच आपसी अवधारणाओं को सिखाता है।

भ्रष्टाचार का मुकाबला करने के लिए राज्य मंत्री निकोलस ट्यूनी ने भी उस जज की प्रशंसा की और कहा कि उनका निर्णय सामाजिक न्याय और धार्मिक असहिष्णुता को सुलझाने के लिए अभिनव न्यायिक दृष्टिकोणों की ओर रुख करता है।

Top Stories