जामिया स्टूडेंट्स का आरोप, कैंपस में पुलिस ने की धक्कामुक्की

जामिया स्टूडेंट्स का आरोप, कैंपस में पुलिस ने की धक्कामुक्की

नई दिल्ली : जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में छेड़छाड़ और नस्लीय टिप्पणी करने के आरोप के साथ अप्लाइड आर्ट्स के हेड के खिलाफ विरोध अब भी हो रहे हैं। शुक्रवार की नारेबाजी, शोरशराबे और धक्कामुक्की के बीच जामिया स्टूडेंट्स और प्रशासन आमने-सामने आए थे। जामिया स्टूडेंट्स ने आरोप लगाया कि हेड हाफिज अहमद की सुरक्षा में लगे लोगों ने स्टूडेंट्स से गुरुवार और शुक्रवार दोनों दिन मारपीट की।
दूसरी तरफ, ऐप्लाइड आर्ट्स के हेड पर लगे सेक्सुअल हैरसमेंट और नस्लवाद के आरोप के बाद यूनिवर्सिटी प्रशासन ने जांच कमिटी बनाई है. यूनिवर्सिटी का कहना है कि कमिटी डिपार्टमेंट में गड़बडडियों की शिकायतों की जांच करेगा.

स्टूडेंट्स का कहना था कि उन्होंने ना सिर्फ लड़कों को पीटा, बल्कि दो लड़कियों के साथ सेक्सुअल हैरसमेंट किया और पीटा भी। एक लड़की को गुरुवार रात अस्पताल भर्ती करना पड़ा। शुक्रवार को भी एक लड़की को कुछ स्टूडेंट्स ने धक्का देकर गिरा दिया। आरोप है कि ये लड़के प्रफेसर की तरफ वाले स्टूडेंट्स बताए जा रहे हैं। देर रात भी पुलिस के जवान कैंपस के बाहर तैनात थे।

नस्लीय टिप्पणी करने और अश्लील मेसेज भेजने का आरोप
प्रफेसर पर लड़कियों को अश्लील मेसेज भेजने का आरोप है। पिछले 8 दिनों से हेड के इस्तीफे की मांग कर रहे इन स्टूडेंट्स का यह भी कहना है कि असोसिएट प्रफेसर हाफिज अहमद स्टूडेंट्स के लिए ‘बिहारी’, ‘कश्मीरी’, ‘आतंकवादी’ जैसे शब्दों का इस्तेमाल करते हैं, साथ ही नंबर देने में भी पक्षपात करते हैं। फाइन आर्ट्स की स्टूडेंट सिमीन का कहना है, ‘हमारा मार्च प्रफेसर के इस्तीफे की मांग के साथ निकाला गया।’ उनका आरोप है कि वह जब फैकल्टी के बाहर प्रोटेस्ट कर रहे थे, तो प्रफेसर को एस्कॉर्ट कर रहे लोगों ने स्टूडेंट्स को मारा, इनमें दो लड़कियों को काफी चोटें आई हैं।

डिपार्टमेंट की स्टूडेंट्स फिरदौस बताती हैं, ‘हम 1 फरवरी से फैकल्टी के आगे प्रफेसर के खिलाफ नारे लगा रहे हैं। आज गार्ड्स ने हमें रोका। गुरुवार को लड़कियों से बदसलूकी की गई।’ फाइन आर्ट्स के स्टूडेंट संजीव सामल का कहना है, हमारे जूनियर्स ने आज भी हेड को फैकल्टी में घूमते देखा है। प्रशासन इस मामले को लेकर गंभीर नहीं है, जबकि हम प्रफेसर की शिकायत प्रॉक्टर, रजिस्ट्रार, डीन सबसे पहले कर चुके हैं। पुलिस में हमने शिकायत दी, मगर एफआईआर रुकवा दी गई। पुलिस को कैंपस के अंदर नहीं आने दिया और शुक्रवार को फिर से हेड के लोगों ने स्टूडेंट्स के साथ धक्कामुक्की की।

Top Stories