Sunday , September 23 2018

जारी रहेंगे ‘बसपा’ के साथ रिश्ते, कैराना लोकसभा और विधानपरिषद के चुनावों में करेंगे ‘BSP’ को मदद- समाजवादी पार्टी

यूपी में कल हुए राज्य सभा चुनाव में बसपा उम्मीदवार भीमराव आंबेडकर की हार के बाद यह चर्चा होने लगी थी, कि अब सपा और बसपा की दोस्ती कायम नहीं रह सकेगी।

लेकिन सपा प्रवक्ता और एमएलसी सुनील सिंह साजन ने खुलासा कर दिया, कि यह रिश्ता इतना कमजोर नहीं कि इतने जल्दी टूट जाए। सपा आगामी कैराना लोकसभा और विधान परिषद चुनाव में बसपा की मदद करेगी।

उल्लेखनीय है कि यूपी की 10 राज्यसभा सीट में से नौ पर बीजेपी की जीत के बाद सबको यही लगाने लगा कि अब सपा और बसपा फिर अलग हो जाएंगे।

लेकिन सपा प्रवक्ता और एमएलसी सुनील सिंह साजन ने कहा कि समाजवादी पार्टी और बसपा के रिश्ते राज्यसभा चुनाव के बाद भी जारी रहेंगे। जानकारों के अनुसार लोकसभा चुनाव में दोनों पार्टियां एक साथ ही चुनाव मैदान में उतरने वाली है।

गौरतलब है कि 5 मई को सपा की सात, बसपा की तीन और भाजपा की दो सीटें इस तरह कुल 12 सीटें खाली हो रही है। आंकड़ों की मानें तो10 सीटें बीजेपी के खाते में जा रही है जबकि दो सीटों पर सपा-बसपा मजबूत है।

विधान परिषद् में सपा के अखिलेश यादव,नरेश उत्तम पटेल, उमर अली खान, मधु गुप्ता, राजेन्द्र चौधरी, राम सकल गुर्जर और विजय यादव का कार्यकाल खत्म हो रहा है।

बदले हालातों में यह माना जा रहा है कि सपा विधान परिषद और कैराना लोकसभा के उपचुनाव में में बसपा की मदद करेगी। इस बारे में बीएसपी के महासचिव सतीश मिश्रा ने कुछ नरमी के संकेत दिए हैं।

TOPPOPULARRECENT