Sunday , February 18 2018

जाली डिग्री केस में माख़ूज़ तोमर की दरख़ास्त ज़मानत से दसतबरदारी

नई दिल्ली: जाली डिग्री केस में माख़ूज़ दिल्ली के साबिक़ वज़ीर-ए-क़ानून जतिंद्र सिंह तोमर ने सैशन कोर्ट में अपनी दरख़ास्त ज़मानत से दसतबरदारी इख़तियार करली और बताया कि चूँकि उन्हें 4 यौम के लिए पुलिस रीमांड में भेज दिया गया लिहाज़ा वो इ

नई दिल्ली: जाली डिग्री केस में माख़ूज़ दिल्ली के साबिक़ वज़ीर-ए-क़ानून जतिंद्र सिंह तोमर ने सैशन कोर्ट में अपनी दरख़ास्त ज़मानत से दसतबरदारी इख़तियार करली और बताया कि चूँकि उन्हें 4 यौम के लिए पुलिस रीमांड में भेज दिया गया लिहाज़ा वो इस मामले की फ़िलफ़ौर यकसूई नहीं चाहते हैं।

ऐडीशनल जज वीमल कुमार ने तोमर के वकील के इस्तिदलाल को क़बूल करते हुए दिल्ली पुलिस के नुमाइंदा ऐडवोकेट को जवाब देने की हिदायत दी। ऐडीशनल पब्लिक प्रॉसिक्यूटर अतुल कुमार श्रीवात‌व ने बताया कि दरख़ास्त ज़मानत से दसतबरदारी के लिए तोमर की अर्ज़ी पर उन्हें कोई एतराज़ नहीं है क्योंकि ये मामला आगे बढ़ाने या ना बढ़ाने का इख़तियार तोमर को हासिल है ताहम तोमर के वकील ऐडवोकेट हरीश जैन ने बताया कि चूँकि मुल्ज़िम को 4 दिन के लिए पुलिस रीमांड में भेज दिया गया है लिहाज़ा हम मुताल्लिक़ा मेट्रो पोलिटिन मजिस्ट्रेट के रूबरू ताज़ा दरख़ास्त पेश करने की आज़ादी के साथ ज़मानत की अर्ज़ी से दसतबरदारी इख़तियार कररहे हैं और ये अर्ज़ी पुलिस तहवील की मुद्दत ख़त्म होने के बाद तोमर की दुबारा अदालत में हाज़िरी के मौक़े पर पेश की जाएगी।

जिस पर अदालत ने तोमर की दरख़ास्त को समाअत के लिए क़बूल करलिया। कोर्ट ने कल तोमर की पुलिस तहवील में मज़ीद 4 दिन की तौसीअ करदी थी जब तहक़ीक़कारों (पुलिस) ने बताया कि जाली डिग्री केस में तहक़ीक़ात के लिए उन्हें (तोमर) बनडीलखनड यूनीवर्सिटी ले जाने की ज़रूरत है।

TOPPOPULARRECENT