Tuesday , December 19 2017

जावेद हबीब का इंतेक़ाल

नई दिल्ली, १२ अक्टूबर (पी टी आई) ऑल इंडिया बाबरी मस्जिद एक्शण कमेटी के बानीयों ( Founders) में से एक बानी ( Founder) जावेद हबीब का आज क़लब पर हमले ( दिल के दौरे) के बाइस ( कारण) इंतेक़ाल हो गया। ख़ानदान के ज़राए ( लोगों) ने कहा कि जावेद हबीब जो उर्दू हफ़त

नई दिल्ली, १२ अक्टूबर (पी टी आई) ऑल इंडिया बाबरी मस्जिद एक्शण कमेटी के बानीयों ( Founders) में से एक बानी ( Founder) जावेद हबीब का आज क़लब पर हमले ( दिल के दौरे) के बाइस ( कारण) इंतेक़ाल हो गया। ख़ानदान के ज़राए ( लोगों) ने कहा कि जावेद हबीब जो उर्दू हफ़तावार ( साप्ताहिक ) हुजूम ( अखबार का नाम) की इदारत ( संपादन) करते थे , ऑल इंडिया बाबरी मस्जिद एक्शण कमेटी के कन्वीनर ( संयोजक/ भी थे।

वो 64 साल के थे। जुनूब मशरिक़ी दिल्ली में वाक़्य ( स्थित) ज़ाकिर नगर में अपनी रिहायश गाह में उन्होंने आख़िरी सांस ली। अलीगढ़ मुस्लिम यूनीवर्सिटी के फ़ारिगुत्तहसील (सिक्षा प्राप्त) जावेद हबीब कुछ दिन से अलील ( बीमार) थे।

पसमानदगान ( वारिस) में अहलिया ( बीवी) और तीन फ़र्ज़द ( बेटे) शामिल हैं। अहलिया मुहतरमा , जामिआ मिलीया यूनीवर्सिटी में अस्सिटेंट प्रोफेसर हैं। वो राजस्थान में पैदा हुए । साबिक़ ( पूर्व) वज़ीर-ए-आज़म ( प्रधान मंत्री) वी पी सिंह के भी साथी रह चुके हैं।

TOPPOPULARRECENT