Thursday , April 19 2018

जासूसी मामले में एक और कर्नल रैंक के अधिकारी गिरफ्तार

भारतीय सेना हनीट्रैप के शिकंजे में फंसती ही जा रही है। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई द्वारा बिछाए हनीट्रैप के जाल में वायुसेना के ग्रुप कैप्टन अरुण मारवाह के फंसने के बाद अब एक और सैन्य अधिकारी का नाम सामने आया है। जबलपुर स्थित वर्कशॉप में काम करने वाले एक अधिकारी को सेना की काउंटर इंटेलिजेंस विंग के अधिकारियों द्वारा संवेदनशील गतिविधियों में शामिल होने के आरोप में हिरासत में लिया गया है। गोपनीय दस्तावेज लीक करने का आरोप जानकारी के अनुसार सोमवार रात मध्य प्रदेश के जबलपुर में सेना मुख्यालय में तैनात लेफ्टिनेंट कर्नल रैंक के ऑफिसर के कार्यालय परिसर में मिलिट्री इंटेलिजेंस के अधिकारियों ने तलाशी ली। लेफ्टिनेंट कर्नल पर गोपनीय दस्तावेज लीक करने का आरोप लगा है। इनसे जुड़े अधिकारियों का कहना है लेफ्टिनेंट कर्नल आर्मी बेस के वर्कशॉप में तैनात थे और उनके एकाउंट से हुए वित्तीय लेनदेन के चलते उन्हे हिरासत में लिया गया। हालांकि इस मामले की आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं हो सकी है। बता दें कि 9 फरवरी को दिल्‍ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI के लिए जासूसी करने और उसको गोपनीय दस्तावेज मुहैया कराने के आरोप में अरुण मारवाह (51) को दिल्ली से गिरफ्तार किया था। सूत्रों मुताबिक कुछ महीने पहले ISI के एक एजेंट ने लड़की बनकर मारवाह से संपर्क किया था।
TOPPOPULARRECENT