Friday , August 17 2018

जिंस टेस्ट नहीं कराने पर, देवर ने जूते से पीटा, ससुर ने काटा बाल

जिंस टेस्ट नहीं कराने पर पंचों ने एक हमाल खातून को बाल काटने और जूता से मारने की सजा सुनायी। भरी पंचायत में ही मजलूमा के ससुर ने उसके बाल काटे और देवर जूता से पीटा। मामला आदापुर प्रखंड के सिरिसिया गांव का है। मज़लूमा को बदचलन बता कर

जिंस टेस्ट नहीं कराने पर पंचों ने एक हमाल खातून को बाल काटने और जूता से मारने की सजा सुनायी। भरी पंचायत में ही मजलूमा के ससुर ने उसके बाल काटे और देवर जूता से पीटा। मामला आदापुर प्रखंड के सिरिसिया गांव का है। मज़लूमा को बदचलन बता कर यह सजा दी गयी। वाकिया 26 फरवरी की है।

मज़लूमा ने पुलिस ओहदेदार जीतेंद्र पांडेय के दफ्तर में दरख्वास्त देकर कार्रवाई की गुहार लगायी है। खातून का इल्ज़ाम है कि गुजिशता 26 फरवरी को पंचायत बुलायी गयी। नट जाति के सदर महमद्दीन ने उसे बदचलन बताया। बाल काटने के साथ सौ जूता मारने का फरमान सुनाया। इसके बाद भरी पंचायत में खातून के ससुर ने बाल काट दिये और जूता से पीटा गया।

क्या है पूरा मामला

खातून का इल्ज़ाम है कि उसके वालिद की मौत के बाद कम उम्र में उसके फूफा के दबाव में उसकी मर्जी के खिलाफ शादी कर दी गयी। एक साल पहले वह हमल हुई। इसके बाद खानदान के लोगों ने मोतिहारी के एक अल्ट्रासाउंड में जिंस टेस्ट कराया। जिंस टेस्ट में बेटी होने पर रक्सौल के एक बड़े अस्पताल में इसकात हमल कराया गया। दो माह पहले वह फिर से हमल हुई है। हमल रहने के बाद से उसके शौहर और ससुर जिंस टेस्ट की बात करने लगे।

बेटी होने की हालत में फिर से हमल गिराने की बात होने लगी। जब उसने मोतिहारी जाकर टेस्ट कराने से इनकार कर दिया, तो बदचलन होने का इल्ज़ाम लगाया गया। कहा गया कि बच्चा किसी और का है। 26 फरवरी को तकरीबन तीन बजे पंचायत हुई। उसमें बाल काट दिया गया। पिटाई की गयी।

बदहवास हालत में घर ले जाया गया। वहां कत्ल की मंसूबा सुन कर रात के आठ बजे घर से निकल गई। छौड़ादानो के एक गांव पहुंची। वहां बिरादरी के लोग रहते हैं। इसके बाद वह एसडीपीओ दफ्तर पहुंची। वे आफिस में नहीं थे। दफ्तर में दरख्वास्त दिया। दफ्तर के सहयोगी ने दरख्वास्त ले लिया है। थाना जाने की सलाह दी। रिसिविंग मांगने पर “जनता दरबार” के दिन आने की बात कहीं गयी।

TOPPOPULARRECENT