Thursday , December 14 2017

जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति का घर सैनिकों ने घेरा, तख्तापलट का अंदेशा !

हरारे : जिम्बावे के सैनिकों ने राष्ट्रपति मुगाबे का घर घेर लिया है। अंदेशा जताया जा रहा है कि यर तख्ता पलट की निशानी है। हालांकि सेना ने इसे तख्तापलट कहने से इनकार कर दिया है। उसका कहना है कि राष्ट्रपति राबर्ट मुगाबे सुरक्षित हैं.

जिम्बाब्वे की राजधानी हरारे में तीन विस्फोट के बाद सेना ने सरकारी टीवी ब्रॉडकास्टर को भी सीज कर दिया है. यह सब रॉबर्ट मुगाबे के लिए एक असाधारण चुनौती के रूप में है. वहीं, कुछ लोग इसे तख्तापलट के तौर पर भी देख रहे हैं.

हम केवल अपराधियों को निशाना बना रहे हैं, पर जवानों को राजधानी में राहगीरों को मारते और सेना के तीन वाहनों में गोला बारूद भरते देखा गया है. जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति का घर सैनिकों से घिरा देखा गया है. वहां गोलियों की आवाज भी सुनी गई हैं. लेकिन ऐसी भी संभावना जताई जा रही है कि 37 साल का शासन जाते देख खुद की रक्षा के लिए फायरिंग की गई है.

रिपोर्टे के मुताबिक, जिम्बाम्बे यूनिवर्सिटी के भी नजदीक भी विस्फोट की आवाज सुनी गई है. जिम्बाब्वे के सेना प्रमुख ने कहा, वह सोमवार को ही राष्ट्रपति मुगाबे के विरोधियों के खत्म करने के लिए कदम उठा सकते थे. तनाव के बीच सेना के टैंक सिटी सेंटर की ओर आते हुए देखे गए.


इस दौरान राजधानी में स्थित यूएस एंबेसी ने ट्वीट किया करते हुए कहा है, ‘यहां अनिश्चितता चल रही है.’ इसके बाद एंबेसी ने यूएस नागरिकों को कहा है, ‘आगे की सूचना तक सूरक्षित स्थान पर रहें.’ ब्रिटिश सरकार ने कहा है, अनिश्चित राजनैतिक स्थिति को देखते हुए ब्रिटिश नागरिक घरों में ही रहें.

ये भी कहा जा रहा है कि राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे के घर के पास जुटे क्रिमिनल्स को टार्गेट करते हुए फायरिंग की गई है. यह सैन्य शासन लगाने का प्रयास नहीं है. राष्ट्रपति और उनका परिवार सुरक्षित हैं.

TOPPOPULARRECENT