Monday , December 11 2017

जीएसटी एन बहुल शेयरों केंद्र को मिलने की संभावना

नई दिल्ली: एक घरेलू कंपनी गुड्स एंड सर्विस टैक्स नेटवर्क (जीएसटी एन) की स्थापना केंद्र सरकार के विचाराधीन है जिसमें सरकार को बहुमत हिस्सेदारी दिए जा सकते हैं। इस कंपनी को जीएसटी के लिए सूचना प्रौद्योगिकी इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। भारत सरकार के वर्तमान में जीएसटी एन में 24.5 प्रतिशत शेयर हैं जबकि राज्य सरकारें संयुक्त रूप से 24.5 प्रतिशत हिस्सेदारी रखती हैं।

51 प्रतिशत हिस्सेदारी गैर सरकारी संस्थाओं जैसे एचडीएफसी बैंक ‘आई सी आई सी आई बैंक और एलआईसी हाउज़िंग फाइनेंस के पास हैं। सरकार इस बदलाव का समय समीक्षा रही है जब कई पक्षों ने जीएसटी एन को लेकर आशंका जताई थी| राजस्व सर्विस (सीमा शुल्क और केंद्रीय एक्साइज़) पत्रव्यवहार ने कहा कि चूंकि जीएसटी एन के लिए धन केंद्र और राज्य सरकारें प्रदान करती हैं इसलिए इसका प्रशासन घरेलू लोगों को भारी वेतन और भत्ता के साथ देने का कोई औचित्य नहीं है।अधिकारियों के एक प्रवक्ता का कहना है कि अब केंद्र सरकार इस संबंध में विचार कर रही है।

TOPPOPULARRECENT