Sunday , July 22 2018

जीते मुस्लिम प्रत्याशियों ने बताया शिवसेना को मुसलमानों का सच्चा हमदर्द

बीच में हाजी हलीम खान

मुंबई: शिवसेना हिन्दुत्वादी पार्टी मानी जाती है। लेकिन हाल ही में संपन्न हुए मुंबई नगर निकाय चुनाव (बीएमसी) चुनावों में यह मुसलमान समर्थक बनकर सामने आई है। पार्टी ने दो मुस्लिम इलाकों में जीत दर्ज की है।

बीएमसी में शिवसेना ने में कुल 84 सीटें जीतीं हैं। बता दें कि पार्टी ने पांच मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट दिया था। उसमें से एक बांद्रा इलाके के बेहरामपाड़ा से और दूसरे उप-नगरीय अमबोली से जीत दर्ज की है।

पूर्व बांद्रा के बहरमपाड़ा के वार्ड संख्या 96 से जीते शिवसेना प्रत्याशी हाजी हलीम खान ने कहा कि शिवसेना को मुस्लिम विरोधी के तौर पर पेश करना कुछ तबकों का काम है। यह कहना कि शिवसेना मुस्लिम विरोधी है, बकवास है और मुसलमानों में शिवसेना को खराब तरीके से पेश करना समाज के कुछ तबकों का काम है। शिवसेना हमेशा समस्याओं का हल करने में मदद करती है। वे हमारे सच्चे हमदर्द हैं।

हाजी हलीम ने कहा, ‘‘मुझे यह याद आता है कि हमारी एक प्रमुख मस्जिद तब बन पाई थी जब बालासाहेबजी ने मदद की।’’ पेशे से टूर ऑपरेटर, हाजी हलीम मुस्लिम बहुल वार्ड से शिवसेना के टिकट पर पहली बार जीते हैं। यह इलाका अमुमन कांग्रेस का गढ़ माना जाता है।

कांग्रेस पर वोट बैंक की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने ने कहा कि कांग्रेस मुस्लिमों को मात्र वोट बैंक से ज्यादा कुछ नहीं समझती है, जबकि शिवसेना हर मुस्लिम को देश के प्रति वफादार होने को प्रोत्साहित करती है। बालासाहेब ने हमेशा सच्चे मुसलमान की तारीफ की है।

वहीं उप-नगरीय अमबोली के जोगेश्वरी वार्ड संख्या 64 से जीती शाहिदा खान ने भी हाजी हलीम खान के विचारों को दोहराते हुए कहा कि शिवसेना हमेशा समुदाय की मदद करती है और जो कोई भी उसके पास वास्तविक समस्या लेकर पहुंचता उसकी सहायता की जाती है।

TOPPOPULARRECENT