Monday , December 18 2017

जीरो से हीरो बने धोनी

नई दिल्‍ली, 25 जून: किस्मत कितनी तेजी से करवट बदलती है, यह महेंद्र सिंह धोनी से बेहतर शायद ही कोई जानता होगा। चैंपियंस ट्रॉफी शुरू होने से पहले उनके सितारे गर्दिश में थे और 20 दिन बाद वह शोहरत की बुलंदी पर पहुंच गए हैं।

नई दिल्‍ली, 25 जून: किस्मत कितनी तेजी से करवट बदलती है, यह महेंद्र सिंह धोनी से बेहतर शायद ही कोई जानता होगा। चैंपियंस ट्रॉफी शुरू होने से पहले उनके सितारे गर्दिश में थे और 20 दिन बाद वह शोहरत की बुलंदी पर पहुंच गए हैं।

इंग्लैंड रवाना होने से पहले कप्तान धोनी समेत पूरी टीम का हौसला टूट चुका था। खुद धोनी स्पॉट फि‌क्सिंग के जाल में फंसते दिख रहे थे। मीडिया उन्हें या उनकी बीवी साक्षी धोनी को बख्‍शने के मूड में कतई नहीं थी।

फिक्सिंग मामले में विंदू दारा सिंह की गिरफ्तारी के बाद साक्षी धोनी पर उंगलियां उठने लगी थीं। ऐसा लग रहा था कि देर-सबेर धोनी भी लपेटे में आ सकते हैं। यह मामला शांत हुआ, तो आईपीएल टीम चेन्नई सुपर किंग्स के प्रिंसिपल गुरुनाथ मयप्पन की गिरफ्तारी ने बवाल मचा दिया।

मयप्पन के बुकी के साथ ताल्लुकात की खबरें सामने आई। और ऐसा शक जताया गया कि मयप्पन को पिच और मैच से जुड़ी दूसरी अहम जानकारियां टीम के कप्तान या किसी दूसरे खिलाड़ी से पहुंची होगी।

जैसे-तैसे यह मामला भी दबा, तो एक स्पोर्ट्स मैनेजमेंट कंपनी में धोनी की हिस्सेदारी को लेकर तनाज़ा खड़ा हो गया। क्रिकेट बोर्ड ने उन्हें इस तरह के विवादों से बचने की सलाह दी।

टीम इंग्लैंड पहुंची, तो धोनी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में साफ कर दिया कि अगर चैंपियंस ट्रॉफी में टीम इंडिया अच्छा मुज़ाहिरा नहीं कर पाती, तो इसके लिए आईपीएल तनाज़े को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए।

लेकिन Practice matches के साथ जब हिंदुस्तानी टीम ने अपना सफर शुरू किया, तो पीछे मुड़कर नहीं देखा। इस पूरे टूर्नामेंट में टीम इंडिया ने प्रैक्टिस समेत कोई भी मैच नहीं गंवाया।

जिस बेखौफ अंदाज में टीम खेली, उसका लोहा सभी मान रहे हैं। इसके अलावा टीम ने अपनी तेज-तर्रार फील्डिंग को लेकर खासी तारीफ भी बटोरी है।

इसका सेहरा धोनी ने क्रिकेट बोर्ड को भी दिया। मैच के बाद उन्होंने कहा कि बोर्ड ने खिलाड़ियों को जदीद सहूलियात मुहैया कराने के लिए काफी पैसा खर्च किया है।

मी‌डिया में अब हर तरफ धोनी-धोनी हो रहा है। क्रिकेट के मद्दाहो को इस जीत ने पुराने तनाज़े को भुलाने का सामान दे दिया है। और 20 दिन में धोनी फर्श से फिर अर्श पर पहुंच गए हैं।

बशुक्रिया: अमर उजाला

TOPPOPULARRECENT