Tuesday , November 21 2017
Home / India / जी एस टी बिल मंज़ूर होने पर भी हुकूमत का तरमीमात के सिलसिले में खुला ज़हन

जी एस टी बिल मंज़ूर होने पर भी हुकूमत का तरमीमात के सिलसिले में खुला ज़हन

नई दिल्ली: कांग्रेस और बाएं बाज़ू की जानिब से जी एस टी की शदीद मुख़ालिफ़त पर मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला राज नाथ सिंह ने तमाम पार्टीयों से अपील की कि मुजव्वज़ा क़ानूनसाज़ी की पार्लियामेंट में मंज़ूरी के लिए ताईद फ़राहम करें। उन्होंने कहा कि हुकूमत आइन्दा भी इस बिल में तरमीमात के सिलसिले में खुला ज़हन रखेगी।

वो ताजिर बिरादरी की एक कान्फ़ेंस से ख़िताब कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हुकूमत अपनी बेहतरीन कोशिश कर रही है कि जी एसटी बिल पार्लियामेंट में मंज़ूर हो जाएगी लेकिन ऐवान की कार्रवाई में अपोज़ीशन की मुसलसल ख़ललअंदाज़ी की वजह से ये कोशिश कामयाब नहीं हो सकी।

जी एसटी बिल लोक सभा में मंज़ूर हो चुका है लेकिन राज्य सभा में उसे कांग्रेस, बाएं बाज़ू की पार्टीयों और अन्ना डी एम की मुख़ालिफ़त की वजह से मंज़ूरी नहीं दी है। ये पार्टीयां बिल में तबदीलीयां चाहती हैं। चिल्लर फ़रोश ताजिरों को मुल्क‌ की मईशत की रीढ़ की हड्डी क़रार देते हुए राज नाथ सिंह ने कहा कि हुकूमत को मुफ़ादात को आलमयाने के अमल से मुतास्सिर नहीं होने देना चाहिए।

TOPPOPULARRECENT