Thursday , May 24 2018

जून से 2000 की नोट बंद?

हैदराबाद 01 दिसम्बर: यह अफवाहें तेजी से गश्त कर रही हैं कि अगले साल जून से 2 हजार रुपये की नई नोट रद्द हो जाएगी। ब्लैक मनी को वाइट करने वालों को चकमा देने के लिए विशेष योजना के तहत 2000 रुपये के नोट को मार्किट में लाया गया और 500 रुपए के नए नोट जारी करने में देरी की गई है .8 नवंबर को 500 और 1000 रुपये के नोटों को रद्द करने के बाद 10 नवंबर से 500 और 2000 रुपये के नए नोट जारी करने की घोषणा की गई। जिसका जनता बड़ी उत्सुकता से इंतजार कर रहे थे।

हालांकि आरबीआई की ओर से सिर्फ 2000 रुपये के नोट जारी की गई। चिलर के अभाव से भी जनता की समस्याओं में वृद्धि हो गया। एक व्यवस्थित योजना के तहत 500 रुपये की नई नोट जारी वह भी बहुत कम मात्रा में। विभिन्न स्रोतों से सूचनाएं प्राप्त हो रही हैं कि सरकार ने स्वार्थों के तहत पहले 2 हजार के नए नोट जारी किया और 500 रुपये के नए नोट को रोके रखा।

अर्थशास्त्रियों ने प्रधानमंत्री को बताया था कि प्रमुख मुद्रा रद्द करने के बाद काला धन रखने वाले लोग इसको वाइट में बदलने के लिए बड़ी नोटों को प्राप्त करने में रुचि दिखाएंगे जब उनकी काले धन वाइट हो जाने के मामले में उन्हें राहत की सांस लेने से पहले 2 हजार रुपए की नई नोट रद्द करते हुए एक और झटका देने का सुझाव दिया था। जिस पर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने अमल किया।

पहले चरण में 2 हजार रुपये की नई नोट छापने पर सारा ध्यान केंद्रित किया गया। 500 रुपये के नए नोट छापने के बावजूद इसे कम मात्रा में जारी किया गया ताकि 2 हजार रुपये के लेनदेन में वृद्धि हो सके। सरकार के सूत्रों ने बताया कि अब कुछ दिन तक यानी 30 दिसंबर तक 500 रुपये के नए नोट कम और 2000 रुपये की नई नोट अधिक मार्किट में लाई जाएगी।

मोहलत समाप्त हो जाने के बाद 500 और 1000 रुपये की रद्द किये गये नोट रद्दी कहलाई गई। सूत्रों ने बताया कि नोट छापने वाली 4 प्रिंटिंग प्रेस में केवल एक प्रेस में ही पूरी तरह से 2 हजार रुपए की नोट छापने जा रही है। बाकी तीन प्रेस में 500, 100, 50, 20 और 10 रुपये के नोट छापे जा रहे हैं। बड़ी नोटों की समाप्ति के बाद तीन पारियों में नोट छापे जा रहे हैं। बावजूद इसके लोगों को पूरी राहत मिलने के लिए 6 महीने का समय आवश्यक होने का अनुमान लगाया जा रहा है। इससे पहले जनता को डिजिटल लेनदेन में सक्रिय होने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।

TOPPOPULARRECENT