Monday , December 18 2017

जूलिया गीलारड पर मुश्तइल मुज़ाहिरीन का हमला

कैनबरा 28 जनवरी ( एजैंसीज़ ) ऑस्ट्रेलियाई वज़ीर-ए-आज़म जूलिया गीलारड एकतक़रीब के बाद मुश्तइल मुज़ाहिरीन के ग़ैज़-ओ-ग़ज़ब का निशाना बन गईं और जूते छोड़कर भागने पर मजबूर होगईं। गीलारड अप्पोज़ीशन लीडर टोनी ऐबट के हमराह दार-उल-हकूमत

कैनबरा 28 जनवरी ( एजैंसीज़ ) ऑस्ट्रेलियाई वज़ीर-ए-आज़म जूलिया गीलारड एकतक़रीब के बाद मुश्तइल मुज़ाहिरीन के ग़ैज़-ओ-ग़ज़ब का निशाना बन गईं और जूते छोड़कर भागने पर मजबूर होगईं। गीलारड अप्पोज़ीशन लीडर टोनी ऐबट के हमराह दार-उल-हकूमत कैनबरा की एक होटल में मुनाक़िदा तक़रीब में शरीक थीं। इस तक़रीब से पहले अप्पोज़ीशन लीडर ने आस्ट्रेलिया के क़दीम बाशिंदों से मुताल्लिक़ चालीस साल पुराने मुआहिदे को गए वक़्त की बात क़रार दिया था।

ज़्यादा हुक़ूक़ का मुतालिबा करने वाले क़दीम बाशिंदे इस ब्यान पर शदीद ब्रहम हैं। तक़रीब के इख़तताम पर जब वज़ीर-ए-आज़मअपनी कार की तरफ़ लौटें तो तक़रीबन पच्चास अफ़राद ने हमला कर दिया। हमला आवरों ने होटल के शीशे तोड़ दिए। वज़ीर-ए-आज़म ने जूते छोड़कर राह फ़रार इख़तियार करने में ही आफ़ियत जानी । ताहम पुलिस अहलकार भी फ़ोरन ही उन की मदद को पहुंच गए थे।

ये तक़रीब क़दीम मुक़ामी बाशिंदों का दिन मनाने के लिए मुनाक़िद हुई थी और मुक़ामीअफ़राद उस दिन को यौम क़बज़ा के तौर पर मनाते हैं।

TOPPOPULARRECENT