Sunday , December 17 2017

जेटली की नसीहत के जवाब में सुब्रह्मण्यम स्वामी ने दी खूनखराबे की धमकी

नई दिल्ली : सुब्रह्मण्यम स्वामी ने वित्त मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ अपना हमला और तेज कर दिया है। भाजपा के राज्यसभा सांसद स्वामी ने शुक्रवार को अपने ऊपर नियंत्रण रखने की सलाह देनेवालों को धमकी भरे अंदाज में कहा कि अगर वह अपने पर उतर आए तो खूनखराबा हो जाएगा।
स्वामी ने शुक्रवार को साफ तौर पर वित्त मंत्री जेटली पर निशाना साधते हुए अपने ट्वीट में कहा, ‘मुझे बिना मांगे अनुशासन में रहने की सलाह देने वालों को यह अंदाजा नहीं है कि अगर मैंने अनुशासन तोड़ दिया तो खूनखराबा हो जाएगा।’ हालांकि स्वामी ने जेटली का नाम तो नहीं लिया लेकिन वह स्पष्ट रूप से वित्तमंत्री का हवाला दे रहे थे, जिन्होंने बुधवार को उनसे मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यन पर हमले के मद्देनजर नियंत्रण और अनुशासन की अपील की थी।
स्वामी द्वारा कल आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास पर निशाना साधने के मद्देनजर सचिव के बचाव में भी जेटली ने अनुशासन शब्द का इस्तेमाल किया था। स्वामी ने एक अन्य ट्वीट में जेटली पर इशारों में हमला करते हुए भाजपा से यह भी कह डाला कि वह मंत्रियों निर्देश दें कि विदेशी दौरों में वे पारंपरिक और आधुनिक भारतीय परिधान ही पहनें। कोट और टाई में वे वेटर जैसे लगते हैं। शुक्रवार को ही अखबारों में अरुण जेटली और बैंक ऑफ चाइना के चेयरमैन का एक फोटो आया है जिसमें वित्त मंत्री ने लाउंज सूट पहना हुआ है।
आर्थिक क्षेत्र से जुड़े लोगों पर लगातार हमले कर रहे सुब्रमण्यन स्वामी ने हाल ही में आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास को अपना निशाना बनाया था। उनके इस हमले के बाद अरुण जेटली ने ट्वीट किया था कि वित्त मंत्रालय के एक अनुशासित अधिकारी के खिलाफ अनुचित और झूठे आरोप लगाए जा रहे हैं। जेटली के इस ट्वीट के बाद स्वामी ने अपना ट्वीट हटा दिया था। इससे पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को कहा था कि राजनीतिज्ञों को सोच-समझकर बयान देने चाहिए। उनके बयान पर पलटवार करते हुए स्वामी ने भी कहा था, ‘जेटली क्या बोले, क्या नहीं बोले इससे मुझे क्या लेना-देना?’ स्वामी ने कहा कि अभी जरूरत नहीं है। जब जरूरत पड़ेगी तब वह पीएम नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से बात करेंगे। स्वामी पहले ही रिजर्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन और मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यन के खिलाफ मोर्चा खोल चुके हैं।

TOPPOPULARRECENT