जेठमलानी, बी जे पी पारलीमानी पार्टी के इजलास में ज़बरदस्ती घुस गए

जेठमलानी, बी जे पी पारलीमानी पार्टी के इजलास में ज़बरदस्ती घुस गए
नई दिल्ली, 8 मई: (पी टी आई) बी जे पी के मुअत्तल शूदा रुकन राज्य सभा राम जेठमलानी इस असल अपोज़ीशन जमआत के पारलीमानी बोर्ड के इजलास में आज ज़बरदस्ती घुस गए और इल्ज़ाम आइद किया कि रिश्वत सतानी के मसले पर उनकी पार्टी (बी जे पी) यू पी ए हुकूमत

नई दिल्ली, 8 मई: (पी टी आई) बी जे पी के मुअत्तल शूदा रुकन राज्य सभा राम जेठमलानी इस असल अपोज़ीशन जमआत के पारलीमानी बोर्ड के इजलास में आज ज़बरदस्ती घुस गए और इल्ज़ाम आइद किया कि रिश्वत सतानी के मसले पर उनकी पार्टी (बी जे पी) यू पी ए हुकूमत के तईं नरम गोशा इख्तेयार कर रही है।

ज़राए ने कहा कि अगरचे राम जेठमलानी को बी जे पी पारलीमानी पार्टी के इस हफ़तावार इजलास में शिरकत की इजाज़त नहीं थी लेकिन वो पार्लीमेंट हाउस में जारी इजलास में ज़बरदस्ती घुस गए और इल्ज़ाम आइद किया कि यू पी ए हुकूमत की रिश्वत सतानी के मसला पर बी जे पी इंतिहाई नरम गोशा इख़तियार कररही है।

जेठमलानी ने हुक्मराँ जमआत पर अपोज़ीशन के हमलों में इज़ाफ़ा की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुए कहा कि रिश्वत सतानी के मसले पर जिस क़दर सख़्त और मज़बूत अंदाज़ में आवाज़ उठाई जानी चाहीए थी, बी जे पी वो जारिहाना अंदाज़ नहीं अपना रही है। उन्होंने इल्ज़ाम आइद किया कि बी जे पी उलझन और ग़ैर यक़ीनी की हालत में है और हुक्मराँ जमआत को सरगर्मी के साथ निशाना नहीं बना रही है।

जेठमलानी ने पार्टी क़ियादत से सवाल किया कि उन्हें नोटिस जारी किए जाने के तीन माह बाद भी पार्टी से ख़ारिज क्यों नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि उन्हें पार्टी से ख़ारिज कर दिया जाये या फिर उन के ख़िलाफ़ जारी नोटिस वापस ले ली जाये। बिशमोल पारलीमानी पार्टी के सरबराह एल के अडवानी, लोक सभा में अपोज़ीशन लीडर सुषमा स्वराज, राज्य सभा में अपोज़ीशन लीडर अरूण जेटली, बी जे पी के तमाम अरकान-ए-पार्लीमेंट ने ख़ामोशी के साथ जेठमलानी की तक़रीर की समाअत की और 10 मिनट के ख़िताब के बाद वो (जेठमलानी) अफ़रातफ़री की हालत में वापस चले गए।

बादअज़ां बी जे पी अरकान-ए-पार्लीमेंट अनंत कुमार, रवी शंकर प्रसाद और शाहनवाज़ हुसैन ने अपने ख़िताब के दौरान जेठमलानी के नाज़ेबा रवैय्या की मुज़म्मत की और कहा कि इस किस्म का तर्ज़ अमल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। कई अरकान-ए-पार्लीमेंट ने जेठमलानी को बी जे पी से ख़ारिज कर देने का मुतालिबा किया।

लेकिन बी जे पी के सीनीयर क़ाइदीन का ये नज़रिया था कि जेठमलानी को ख़ारिज करना पार्टी के लिए इसलिए भी नुक़्सानदेह होगा कि वो राज्य सभा में मनमानी ख़्यालात का इज़हार करेंगे जिस से पार्टी को मज़ीद नुक़्सान पहुँच सकता है। ताहम कल के रवैय्या पर उन्हें मज़ीद एक वजह नुमाई नोटिस जारी की जा सकती है।

Top Stories