Tuesday , December 12 2017

जेडीयू की अज़म रैली सात दिसंबर से

जेडीयू की अज़म रैली सात दिसंबर को शुरू होगी और 16 फरवरी, 2014 तक चलेगी। शुरुआत मोतिहारी से होगी और एख्तेताम पटना में होगा। इस दरमियान 12 रैलियां होंगी। जदयू के रियासती सदर वशिष्ठ नारायण सिंह ने मंगल को प्रेस कोन्फ्रेंस में यह जानकारी दी

जेडीयू की अज़म रैली सात दिसंबर को शुरू होगी और 16 फरवरी, 2014 तक चलेगी। शुरुआत मोतिहारी से होगी और एख्तेताम पटना में होगा। इस दरमियान 12 रैलियां होंगी। जदयू के रियासती सदर वशिष्ठ नारायण सिंह ने मंगल को प्रेस कोन्फ्रेंस में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि रैलियों में शामिल होने के लिए वज़ीरे आला नीतीश कुमार से दरख्वास्त किया गया है।

“संकल्प रैली” में मुतल्लिक़ जिलों के कारकुनान, एसेम्बली रुक्न, एमपी, ओहदेदार तमाम शामिल होंगे। जदयू ने समाजी एहतेजाज बनाये रखने, बिहार को खुसुसि दर्जा दिलाने, पार्टी को आगे बढ़ाने का अहद लिया है, जिसे लेकर यह रैली हो रही है। इन रैलियों में भाजपा और कांग्रेस की बात नहीं होगी, बल्कि पार्टी की पॉलिसियों पर बहस होगी। “संकल्प रैली” का फैसला 28-29 अक्तूबर को राजगीर में हुए फिक्र कैंप में लिया गया था।

इक़दार को भूले भाजपाई
उन्होंने कहा कि जैसे-जैसे बयान भाजपा क़ायेदीनों के आते हैं, यह दरसाता है कि वे सियासी इक़दार को भूल चुके हैं। रद्दो अमल का स्तर नीचे गिर सकता है, यह सोच कर तरस आती है। गांधी मैदान में हुए दहशतगर्दी वाकिया पर अपोजीशन अनाप-सनाप बयान दे रहा है। मैं पूछता हूं कि एमपी पर हमला हुआ था, तो क्या मौजूदा वज़ीरे आजम अटल बिहारी वाजपेयी और दाख्ला वज़ीर लालकृष्ण आडवाणी ने सेक्यूरिटी में चूक की थी। दहशतगर्द बाइनूल कवामी मुद्दा है। मौके पर एमपी आरसीपी सिंह, संजय झा, नीरज कुमार, रामकिशोर सिंह, चंदेश्वर प्रसाद चंद्रवंशी, छोटू सिंह वगैरह मौजूद थे।

TOPPOPULARRECENT