Tuesday , November 21 2017
Home / Delhi News / जेल जाने का पछतावा नहीं है, गर्व है: उमर खालिद

जेल जाने का पछतावा नहीं है, गर्व है: उमर खालिद

2Q==(4)

नई दिल्ली। जेल से बाहर आने के बाद जेएनयू के छात्र उमर खालिद ने कहा कि उन्हें जेल जाने का कोई पछतावा नहीं है और इस कथित मामले में गिरफ्तार होने का मुझे गर्व है। राजद्रोह के एक मामलें में उन्हें जेल हुई थी। उन्होंने कहा, इस विशेष मामले में जेल जाने का हमें कोई पछतावा नहीं है। हमें वास्तव में इस बात को लेकर गर्व है कि हमें राजद्रोह के मामले में गिरफ्तार किया गया, एक कानून जिसके तहत अरुंधति रॉय और बिनायक सेन जैसे लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

विश्वविद्यालय परिसर में कुछ लोगों के बीच उन्होंने कहा, हमारा नाम उन लोगों की सूची में शामिल हो गया, जिन्हें अपनी आवाज उठाने के कारण जेल जाना पड़ा है।

देशद्रोह मामले में आरोपी जेएनयू छात्र उमर खालिद और अनिर्बान को पटियाला हाउस कोर्ट से छह महीने की अंतरिम जमानत मिलने के बाद आज देर शाम तिहाड़ जेल से रिहा कर दिया गया। जेल से रिहा होने के बाद दोनों जेएनयू कैंपस पहुंचे। यहां उमर खालिद ने छात्रों को ठीक उसी तरह संबोधित किया, जैसे कन्‍हैया कुमार ने जमानत पर जेल से रिहा होने के बाद जेएनयू कैंपस पहुंचकर किया था। पिछले डेढ़ महीने से खुद को ज्‍यादा मजबूत महसूस कर रहा हूं

यहां उमर खालिद ने छात्रों से कहा कि ‘हमारे आंदोलन को तोड़ने वाले कितने बड़े मुगालते थे। मैं आप सभी लोगों के बीच में खड़ा होकर पिछले ड़ेढ महीने से खुद को ज्‍यादा मजबूत महसूस कर रहा हूं। हम लोगों को देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किया गया। हमें इस बात को लेकर शर्म नहीं है कि हमें इस धारा के तहत गिरफ्तार किया गया, क्‍योंकि देश के स्‍वतंत्रता सेनानी भी इसी आरोप में गिरफ्तार किए गए।’

उमर ने आगे कहा, ‘हम यहां से चिल्‍ला-चिल्‍लाकर बोलना चाहते हैं कि सरकार के खिलाफ हमारा विद्रोह जारी रहेगा। क्रिमिनल वो हैं जो पावर में हैं। सत्‍ता का विरोध करने वालों को हमेशा जेल में डाला गया।’ खालिद ने अपने भाषण में पीएम मोदी और शिव सेना के प्रमुख बाला साहब ठाकरे पर भी निशाना साधा।

TOPPOPULARRECENT