Monday , December 18 2017

जेल से रिहाई के बाद ज़िंदगी में तबदीली लाने का मश्वरह

जेल में क़ैदी की ज़िंदगी गुज़ारने वाले मर्द-ओ-ख़वातीन को चाहीए कि जेल से रिहाई के बाद अपनी ज़िंदगी में तबदीली लाते हुए अपने अफ़रादे ख़ानदान की परवरिश करते हुए समाज में नुमायां मुक़ाम हासिल करें।

जेल में क़ैदी की ज़िंदगी गुज़ारने वाले मर्द-ओ-ख़वातीन को चाहीए कि जेल से रिहाई के बाद अपनी ज़िंदगी में तबदीली लाते हुए अपने अफ़रादे ख़ानदान की परवरिश करते हुए समाज में नुमायां मुक़ाम हासिल करें।

इन ख़्यालात का इज़हार आदिलाबाद डिस्ट्रिक्ट जज जी गोपाल कृष्णा मूर्ती ने गांधीजयंती के मौके पर मुस्तक़र आदिलाबाद के जेल में क़ैदीयों से मुख़ातब होकर किया जबकि इस तरकीब में ज़िला कलेक्टर एम जगन मोहन ज़िला एस पी गजा राव‌ भोपाल भी मौजूद थे।

उन्होंने भी क़ैदीयों को आइन्दा की ज़िंदगी बेहतर गुज़ारते हुए समाज और मुल्क में नुमायां मुक़ाम बनाने का मश्वरह दिया। गांधी जयंती के मौके पर क़ैदीयों में खेलों का इनइक़ाद अमल में लाया गया था। खेल कूद के मैदान में कामयाबी हासिल करने वाले क़ैदीयों को सरटीफ़ीकट से नवाज़ा गया।

TOPPOPULARRECENT