Thursday , November 23 2017
Home / Delhi News / जे डी यू ‍- बी जे पी इत्तेहाद के ख़ातमे का बिहार पर मनफ़ी असर

जे डी यू ‍- बी जे पी इत्तेहाद के ख़ातमे का बिहार पर मनफ़ी असर

नई दिल्ली: बिहार इंतेख़ाबात से पहले बिहार से उल-हाक़ रखने वाली दानिशवरों की तंज़ीम ने चीफ़ मिनिस्टर नीतीश कुमार के तरक़्क़ी के गाँव‌ की तरदीद करते हुए कहा था कि एन डी ए के साथ जे डी यू के तर्क‍-ए‍-ताल्लुक़ से रियासत की हुक्मरानी के मियार पर मनफ़ी असर मुरत्तिब हुआ है।

सरकारी पोलिसी तहक़ीक़ाती मर्कज़ जिसके सदर बी जे पी के नायब सदर विनय‌ सहसरा बुधे हैं कहा कि तमाम अहम तरक़्क़ीयाती इशारों के तजज़िया के बाद इस तहक़ीक़ से इस हक़ीक़त की एहमियत ज़ाहिर होती है कि बी जे पी के जे डी यू से तर्क‍-ए‍-ताल्लुक़ ने रियासत में हुक्मरानी के मियार पर और इस के नतीजे में बिहार की अवाम के मियार-ए-ज़िंदगी पर मनफ़ी असर मुरत्तिब किया है।

कमेटी ने अपनी तहक़ीक़ में ये नतीजा अख़ज़ किया है कि तरक़्क़ीयाती काम नीतीश कुमार के बी जे पी ज़ेरे क़ियादत एन डी ए से तर्क‍-ए‍-ताल्लुक़ के बाद रियासत पर उस के मनफ़ी असरात मुरत्तिब हुए हैं। नीतीश कुमार ने 2013में पार्टी की इंतेख़ाबी मुहिम के सरबराह की हैसियत से तरक़्क़ी दिए जाने के बाद एन डी ए से तर्क-ए-तअल्लुक़ कर लिया था।

कमेटी का दावा है कि इस ने हुक्मरानी के टुकड़े होजाने के नताइज का गहरा मुताला किया है। सिर्फ 17फ़ीसद सरकारी स्कूल्स में लड़कों के लिए और बमुश्किल 58फ़ीसद स्कूल्स में लड़कीयों के लिए बैत उल-ख़ला मौजूद हैं। लड़कीयों के तालीम तर्क कर देने किया भी एक अहम वजह है।

2011१2 और 2012१3 के दरमियान अली उल-तरतीब 22,575 और 17009 स्कूल्स में नए बैतुल-ख़ला तामीर किए गए लेकिन 2013-13 में नीतीश कुमार के बी जे पी से तर्क‍-ए‍-ताल्लुक़ के बाद ये तादाद घट क‌र 5076हो गई। बिहार में नोमोलूद बच्चों की अम्वात की शरह के बारे में जो क़ौमी औसत 40से ज़्यादा यानी 42 फ़ी हज़ार है।

उज्ज्वल अगरीन की ज़ेर-ए-क़ियादत तहक़ीक़त से साबित होता है कि नोमोलोद बच्चों के अम्वात की शरह इस हक़ीक़त की एक और अक्कासी है कि बिहार में ग़ुर्बत और सेहत के पैमाने मुसलसल इन्हितात पज़ीर है। बिहार में 533 मराकिज़ 2009 में थे जो 2014तक बरक़रार रहे।

तहक़ीक़ के बमूजब 10लाख अफ़राद के लिए नुमायां तौर फिर सिर्फ़ 0.67 का क़ौमी औसत की बनिसबत ज़्यादा मुनाफ़ा हुआ जो 4.43है इनफ्रास्ट्रक्चर के क़ियाम के बारे में दावा किया गया है कि नीतीश के दौर-ए-हकूमत में सड़क तामीर में नुमायां कमी हुई ।006०7 में 337किलोमीटर नई सड़कें तामीर की गई थी ।013१4 में जेडीयू – बी जे पैतृक ताल्लुक़ के बाद ये तादाद92हो गया।

TOPPOPULARRECENT