जौहरी मुज़ाकरात डेडलाइन के बाद भी जारी रह सकते हैं

जौहरी मुज़ाकरात डेडलाइन के बाद भी जारी रह सकते हैं
अमरीका के एक आला सरकारी अहलकार का कहना है कि ईरान और मग़रिबी ममालिक के दरमयान जौहरी मज़ाकरत 30 जून की डेडलाइन के बाद भी जारी रह सकते हैं।

अमरीका के एक आला सरकारी अहलकार का कहना है कि ईरान और मग़रिबी ममालिक के दरमयान जौहरी मज़ाकरत 30 जून की डेडलाइन के बाद भी जारी रह सकते हैं।

ये बात एक ऐसे मौक़ा पर सामने आई है जब ईरान के वज़ीरे ख़ारजा जावेद ज़रीफ़ ऑस्ट्रिया के शहर व्याना में होने वाले मुज़ाकरात में शिरकत करने के बाद ईरान वापिस जाने की तैयारी कर रहे हैं।

मुबस्सिरीन का कहना है कि मिस्टर ज़रीफ़ मुज़ाकरात में हाइल मुश्किलात पर रहनुमाई हासिल करने और ये जानने के लिए ईरान जौहरी मुआइना कारों को किस हद तक रसाई देगा ईरान जा रहे हैं।

ईरान के साथ जौहरी मोज़ाकरत में सात ममालिक हिस्सा ले रहे हैं। इन मुज़ाकरात का मक़सद ईरान के जौहरी प्रोग्राम को महदूद करना और इस के जवाब में ईरान की इक़्तिसादी पाबंदीयां ख़त्म करना है।

Top Stories