झारखंड एक्सप्रेस से रांची आ रही 19 साल की छात्रा से गैंगरेप, जहर खाकर पीड़िता ने दी जाने

झारखंड एक्सप्रेस से रांची आ रही 19 साल की छात्रा से गैंगरेप, जहर खाकर पीड़िता ने दी जाने

झारखंड एक्सप्रेस से रांची आ रही 19 साल की छात्रा से चलती ट्रेन में सामूहिक दुष्कर्म का सनसनीखेज मामला सामने आया है। घटना के दो दिन बाद आठ फरवरी को छात्रा ने जहर खाकर जान देने की कोशिश की। उसका गुरुनानक अस्पताल में इलाज चल रहा है।

पंजाब के फाजिल्का निवासी छात्रा रांची में निजी संस्थान में पढ़ती है। शुक्रवार को जीआरपी थाने में इस संबंध में केस दर्ज किया गया है। रेल एसपी ने बताया कि मामला गंभीर है। जांच के लिए स्पेशल टास्क फोर्स का गठन किया गया है। सीआईडी भी मामले की जांच कर रही है।

चुटिया पुलिस को दिए बयान में पीडि़ता ने बताया कि वो 5 फरवरी को झारखंड एक्सप्रेस से रांची के लिए चली थी। ट्रेन में दो युवकों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। घटना के वक्त वह सो रही थी और बोगी की लाइट बंद थी।

अचानक दोनों युवक पहुंचे और एक ने उसका मुंह कपड़ा से दबा दिया और बारी-बारी से दोनों ने दुष्कर्म किया। कल्पना ने बताया कि घटना के वक्त बोगी में दूसरे पैसेंजर्स नहीं थे। ट्रेन रांची पहुंचने के पहले दोनों युवक स्टेशन से पहले उतर गए।

वहीं झारखंड के मुख्ययमंत्री रघुवर दास ने ट्वीट कर कहा हे कि दिल्ली से रांची आ रही ट्रेन में एक बिटिया के साथ दरिंदगी की खबर से मन द्रवित है। बिटिया को हर मुमकिन मेडिकल सुविधा सरकार उपलब्ध कराएगी और दोषियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।

बताया जा रहा है कि जिस वक्त घटना हुई उस समय बोगी में न कोई पैसेंजर था और न हीं कोई सुरक्षा गार्ड। इसी का फायदा उठा कर दो युवकों ने दुष्कर्म किया।

रांची के कडरू स्थित शिक्षण संस्थान के हॉस्टल में रह स्पोकेन इंग्लिश सीखने आयी युवती ने सदमे में जहर खाकर आत्महत्या करने का प्रयास किया।

पीड़िता को संस्था के सदस्यों ने गुरुनानक अस्पताल में भर्ती कराया। स्थिति में सुधार होने पर 15 फरवरी को उसने चुटिया थाना को आपबीती बतायी. बयान लेने के बाद चुटिया पुलिस ने मामला रांची जीआरपी को ट्रांसफर कर दिया।

रेल डीएसपी किस्टोफर केरकेट्टा ने बताया कि केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी गयी है। आरोपियों के बारे में पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है।

रेल डीएसपी के मुताबिक युवती ने कहा है कि वह घटना के बाद दो दिन तक बदहवास रही। उसे समझ नहीं आ रहा था कि क्या करना चाहिए। आक्रोश, निराशा और शर्म के कारण उसने आठ फरवरी को शाम छह बजे हॉस्टल में कीटनाशक खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की।

हॉस्टल की सिस्टर ने उसे गुरुनानक अस्पताल में भर्ती कराया। अभी वह ठीक से बोल भी नहीं पा रही है। डीएसपी ने कहा कि बयान की जांच की जा रही है।

Top Stories