झारखंड में पहले दिन ही मर जाते हैं हजार में से 24 नववलुद

झारखंड में पहले दिन ही मर जाते हैं हजार में से 24 नववलुद
15 से 21 नवंबर तक रियासत के 15 जिलों के 15 ब्लॉकों में नववलूद बच्चे का सप्ताह मनाया जायेगा। इसके तहत नववलूद बच्चों के सेहत से मुतल्लिक़ मौजू पर लोगों को बेदार किया जायेगा।

15 से 21 नवंबर तक रियासत के 15 जिलों के 15 ब्लॉकों में नववलूद बच्चे का सप्ताह मनाया जायेगा। इसके तहत नववलूद बच्चों के सेहत से मुतल्लिक़ मौजू पर लोगों को बेदार किया जायेगा।

डॉक्टर, एएनएम और सहियाओं की तरफ से नववलूद बच्चों के सेहत की जांच भी की जायेगी। प्रोग्राम के पहले मरहले की जानकारी देते हुए एनआरएचएम के मिशन डायरेक्टर डॉ मनीष रंजन ने मंगल को सहाफ़ियों को बताया कि इस मुहिम में ग्राम सभाओं को भी जोड़ने का फैसला लिया गया है। पूरे दुनिया में 10 लाख बच्चों की मौत पैदाइश के पहले ही दिन हो जाती है।

झारखंड में नववलूद बच्चे की मौत की शरह फी हजार 24 है। इस अदाद व शुमार को कम करना है। इसके लिए हम सबों को इजतेमाई तौर पर कोशिश करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि रियासत में न्यू बॉर्न केयर कॉनर बनाये जायेंगे। इस दौरान चाइल्ड हेल्थ बुकलेट की लांचिंग की गयी। मौके पर डॉ मधुलिका जोनाथन, डॉ राहुल, डॉ गुंजन, डॉ धनंजय व डॉ पुष्पा मारिया बेक वगैरह मौजूद थे।

Top Stories